संसद में लगे नारे, “लोकतंत्र के हत्यारों शर्म करो”

0

उम्मीद के मुताबिक आज से शुरू हुए संसद सत्र में उत्तराखंड के मुद्दे को लेकर दोनो सदनों के बीच भारी हंगामा मचा। लेफ्ट, जेडीयू और दूसरे विपक्षी दलों ने जमकर विरोध के दौरान कांग्रेस का साथ दिया। विपक्ष ने जमकर नारेबाजी की, सरकार को घेरा और राज्यसभा में कांग्रेस ने पोस्टर लहराए। संसद में नारेबाजी के दौरान उत्तराखंड के मामले पर लोकतंत्र के हत्यारों शर्म करो नारे जमकर लगाए गए।
uproar-in-rajyasabha

राज्यसभा में कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने सदन में उत्तराखंड पर चर्चा कराए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में कांग्रेस की चुनी सरकार को गिराया गया। देश में लोकतंत्र का अपमान हो रहा है। आजाद ने कहा कि सरकार का अहंकार पूरा देश देख रहा है। आजाद ने कहा कि सरकार जानबूझकर विपक्ष को उकसाती है।आजाद ने इस दौरान कहा, हमने देखा है कि किस तरह से एक चुनी हुई सरकार अरुणाचल में गिराई गई। आजाद ने साथ ही कहा कि एक साल से देख रहे हैं कि सरकार की ओर से कोशिश होती है कि सदन ना चलने पाए।

लोकसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे और केसी वेणुगोपाल की अगुवाई में कांग्रेस के करीब 20 सांसद लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के सामने आकर हंगामा करने लगे। वहीं, राज्यसभा के वेल में आकर कांग्रेसी सांसदों ने भी हंगामा किया। इस वजह से राज्यसभा की कार्यवाही पहले दोपहर 12 बजे और फिर 2 बजे तक स्थगित करनी पड़ी।

बीजेपी के मुख्तार अब्बास नकवी ने गुलाम नबी आजाद की मांग को खारिज कर दी। नकवी का कहना था कि उत्तराखंड का मामला अदालत में चल रहा है। ऐसे में सदन में इसको लेकर बहस करना सही फैसला नहीं होगा। नकवी ने चुटकी लेते हुए कहा कि इनका काम रोको प्रस्ताव है, हमारा काम करो प्रस्ताव है।

LEAVE A REPLY