भारत के ‘भगोड़े’ शराब कारोबारी विजय माल्या को गिरफ्तारी के कुछ ही घंटों बाद मिली जमानत

0

भारत के भगोड़े शराब व्यापारी विजय माल्या को गिरफ्तारी के कुछ ही घंटों के बाद जमानत मिल गई है। इससे पहले माल्या को मंगलवार(18 अप्रैल) को लंदन में गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद उन्हें वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें जमानत मिल गई। अदालत में अब उनके प्रत्यर्पण को लेकर सुनवाई होगी।

फाइल फोटो।

बता दें कि माल्या भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा लोन लेकर भारत से फरार हैं। इस मामले में विदेश मंत्रालय के जरिए भारत ने दिल्ली में ब्रिटिश उच्चायुक्त को एक आग्रह सौंपा था। जमानत मिलने के बाद विजय माल्या ने ट्वीट में लिखा, ‘मीडिया ने मामले को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया, प्रत्यर्पण केस की सुनवाई आज से सुनवाई शुरू हो गई।’

Also Read:  सैन्य अधिकारियों पर सवाल खड़े करने वाले जवान की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, अफसरों के कुत्ते घुमाने वाला वीडियो हुआ था वायरल

भारत सरकार के पास ब्रिटिश सरकार ने जो संदेश भेजा है उसमें लिखा है कि मोदी सरकार ने जो प्रत्यर्पण की अर्जी दी थी, उसके बाद माल्या को गिरफ्तारी की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सीबीआई कुछ दिनों में लंदन जाकर अपना केस पेश करेगी। मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने माल्या की गिरफ्तारी को सरकार और वित्त मंत्रालय की बड़ी सफलता बताया है।

Also Read:  दिव्यांग व्यक्ति ने एयर इंडिया पर विमान में न चढ़ने देने का लगाया आरोप

बता दें कि देश के कई सरकारी बैंकों से करीब 9,000 करोड़ रुपये का कर्ज लेकर न चुकाने वाले भगोड़े विजय माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भारत सरकार ने ब्रिटेन सरकार से आग्रह किया था। भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की देनदारी का सामना कर रहे माल्या देश छोड़कर काफी वक्त से लंदन में रह रहे हैं।

भारत सरकार ने इस मामले को लेकर विजय माल्या का पासपोर्ट रद्द कर दिया था और इसी आधार पर ब्रिटेन की सरकार से उन्हें भारत डिपोर्ट कर देने का आग्रह किया था। इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय को जानकारी दी गई कि भारत का डिपोर्टेशन अनुरोध यूके के कानूनों के तहत काम नहीं करेगा, क्योंकि यूके में ऐसे लोगों को भी रहने की अनुमति है, जिनके पासपोर्ट वैध नहीं रहे हैं।

Also Read:  भड़काऊ भाषण देने वाले सभी धर्म के लोगों पर बैन लगना चाहिए : दिग्विजय सिंह

हालांकि, भारत के दबाव के बीच माल्या ने कुछ वक्त पहले ही ट्वीट करके बैंकों से समझौते की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि वह बैंकों से 9000 करोड़ रुपये का कर्ज चुकाने के लिए एकमुश्त समझौता करने को तैयार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here