बॉलीवुड के मशहूर म्यूजिक डायरेक्टर विशाल ददलानी ने अभिनेत्री कंगना रनौत पर साधा निशाना

0

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान देश के कई हिस्सों में हुई तोड़-फोड़ को लेकर बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने हाल ही में टिप्पणी की थी, जिसे लेकर वो अब सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। यूजर्स कंगना रनौत के बयान की जमकर निंदा कर रहा है। उनके इस बयान को लेकर बॉलीवुड के मशहूर म्यूजिक डायरेक्टर विशाल ददलानी और दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने भी अपना रिएक्शन दिया है।

विशाल ददलानी

विशाल ददलानी ने अपने ट्वीट में कंगना रनौत के बयान पर निशाना साधते हुए लिखा, “कोई इतना अज्ञानी कैसे हो सकता है? यह विशेषाधिकार की आवाज है, जो यह दिखाने की कोशिश कर रही हैं कि वह आम आदमी से कितनी बेहतर हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हर भारतीय प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से टैक्स का भुगतान करता है। प्रत्येक लेनदेन पर जीएसटी लगाया जाता है। अमीर को यह सोचना बंद कर देना चाहिए कि वो कितना स्पेशल है।”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “और कोई कितना भी टैक्स दे या न दे… किसी को भी संपत्ति को नष्ट करने का अधिकार नहीं है, चाहे वह सार्वजनिक हो या निजी। न ही किसी अधिकारी को शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर हिंसक हमले करने या उन्हें रोकने का अधिकार है।”

वहीं, दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने भी मंगलवार को कंगना रनौत के टैक्स को लेकर दिए गए बयान पर उनकी निंदा की। मनीष सिसोदिया ने अपने ट्वीट में लिखा, “हिंसा और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना हर स्थिति में गलत है। यह मानवता और कानून के खिलाफ है लेकिन यह देश सिर्फ तीन फीसदी लोगों के कर पर आश्रित नहीं हैं। एक सामान्य नौकरीपेशा, यहां तक कि एक दिहाड़ी मज़दूर से लेकर अरबपति तक, देश में हर आदमी टैक्स देता है।”

डिप्टी सीएम ने आगे कहा, “एक दिहाड़ी मज़दूर भी जब बाज़ार से माचिस या नमक का पैकेट ख़रीदकर लाता है तो टैक्स सहित क़ीमत देकर आता है। चंद अरबपतियों से मिलने वाला इनकम टैक्स ही केवल टैक्स नहीं होता है।”

डिप्टी सीएम ने कंगना रनौत की निजी आय में दिहाड़ी मजदूर के योगदान की याद दिलाते हुए कहा, “और हाँ! एक सामान्य दिहाड़ी मज़दूर भी… जब सिनेमा देखने जाता है तो… फ़िल्मी सितारों की करोड़ों की कमाई में योगदान भी देता है और इस देश के लिए टैक्स भी देता है. अब सोचिए कौन किस पर निर्भर है?”

बता दें कि, अपनी अपकमिंग फिल्म ‘पंगा’ के ट्रेलर लॉन्च पर सोमवार को कंगना रनौत ने नागरिकता संशोधन कानून पर हुए विरोध प्रदर्शन के लिए कहा था कि, जब आप विरोध-प्रदर्शन करें, तो पहली चीज यह ध्यान रखें कि यह हिंसा में न बदले। हमारी जनसंख्या में से केवल 3-4 प्रतिशत लोग ही टैक्स देते हैं और बाकी लोग उन्हीं पर निर्भर होते हैं। तो आपको किसने बसें और ट्रेन जलाने, देश में हंगामा करने का अधिकार दिया है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here