फिर मुश्किल में घिरे संजय दत्त, मुंबई की अदालत ने जारी किया गैर-जमानती वारंट

0

बॉलिवुड के प्रसिद्ध अभिनेता संजय दत्त एक बार फिर मुश्किलों में घिरते नजर आ रहे हैं। शनिवार(15 अप्रैल) को मुंबई की एक अदालत ने फिल्म निर्माता शकील नूरानी को धमकी देने के मामले में संजय दत्त के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी किया है। बता दें कि निर्माता शकील नूरानी से संजय का पुराना विवाद चल रहा है।

फाइल फोटो।

नूरानी ने संजय दत्त पर आरोप लगाया था कि एक फिल्म बीच में छोड़ने के बाद पैसे वापस नहीं करने पर जब उन्होंने कोर्ट का रुख किया तब संजय दत्त ने अंडरवर्ल्ड से फोन करवाकर उन्हें मामला वापस लेने के लिए धमकाया था। नूरानी के वकील नीरज गुप्ता ने बताया कि हमने अदालत में पेश नहीं होने के कारण दत्त के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट की मांग की थी। अदालत ने हमारी याचिका को स्वीकार कर ली। मामले की अगली सुनवाई 29 अगस्त को होगी।

Also Read:  आज राज्यसभा में सुषमा स्वराज के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाएगा विपक्ष, गलत जानकारी देने का आरोप

नूरानी ने अपनी शिकायत में कहा है कि दत्त ने साल 2002 में उनके निर्माण में बनने वाली फिल्म ‘जान की बाजी’ बीच में ही छोड़ दी थी। शिकायतकर्ता के अनुसार संजय दत्त ने उनके द्वारा दिए गए पैसे भी वापस नहीं किए। इस संबंध में नूरानी ने इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (आईएमपीपीए) से संपर्क किया, जिसने दत्त को रुपये लौटाने का निर्देश दिया। इसके बाद आईएमपीपीए के आदेश के क्रियान्वयन की मांग को लेकर उन्होंने बंबई हाई कोर्ट रुख किया था।

Also Read:  ब्रिटिश पत्रकार की ट्विटर पर वीरेंद्र सहवाग को चुनौती, भारत के आलंपिक गोल्ड जीतने से पहले इंग्लैड जीतेगा वर्ल्ड कप

निर्माता ने आरोप लगाया कि इसी दौरान उनको अंडरवर्ल्ड से जुड़े कुछ लोगों के धमकी भरे फोन आने लगे, जिन्होंने उनसे मामला वापस लेने की मांग की। इससे पहले भी मामले को लेकर अदालत में हाजिर नहीं होने के कारण दत्त के खिलाफ वारंट जारी किया गया था, लेकिन तब उनको जमानत मिल गई थी।

Also Read:  'जनता का रिपोर्टर' पर खबर चलाए जाने के बाद कपिल सिब्बल फिर राहुल गांधी और कांग्रेस को करने लगे ‘फॉलो’

हालांकि, अभी तक संजय दत्त की तरफ से इस मामले में कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। गौरतलब है कि संजय दत्त इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म ‘भूमि’ की शूटिंग में व्यस्त चल रहे हैं। बता दें कि संजय दत्त 1993 में मुंबई में हुए बम धमाकों के दौरान अवैध हथियार रखने के दोषी पाए गए थे, इसके लिए उन्हें पांच साल की सजा सुनाई गई थी। वह पिछले साल फरवरी में ही अपनी सजा पूरी कर जेल से बाहर आए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here