BJP सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के घर पर गिरी BMC की गाज, बंगले में बने अवैध निर्माण को गिराया

0

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) मुंबई में अवैध निर्माणों को लेकर काफी सख्त हो गई है। आए दिन बीएमसी अवैध निर्माण पर कार्रवाई को लेकर सुर्खियों में बनी रहती ही। बीएमसी ने इस बार बीजेपी सांसद और मशहूर अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा पर शिकंजा कसा है। सोमवार (8 जनवरी) को बीएमसी ने शत्रुघ्न सिन्हा के जुहू स्थित आठ मंजिला बंगले के कई अवैध विस्तार एवं निर्माण को गिरा दिया। खबरों के मुताबिक शत्रुघ्न सिन्हा उस वक्त घर में ही मौजूद थे।न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक बीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पिछले कुछ महीनों से बीएमसी को सिन्हा के आवास ‘रामायण’ के अवैध विस्तार की कई शिकायतें मिली थीं। इसके बाद उन्हें इस संबंध में नोटिस भी भेजा गया था। अधिकारी ने बताया कि, ‘‘सिन्हा ने हालांकि, नोटिसों का जवाब भी दिया, लेकिन हमने निर्माण के प्रावधानों के अनुसार विस्तार में त्रुटि पाई और सोमवार को अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया।’’

रिपोर्ट के मुताबिक कई मुद्दों पर अपनी ही पार्टी की नीतियों से सहमत नहीं होने वाले बिहार से सांसद सिन्हा उस वक्त घर में ही थे जब यह कार्रवाई की गई। अधिकारी ने बताया कि अवैध निर्माण को गिराए जाने के दौरान सिन्हा ने सहयोग किया। वह अपने परिवार के साथ इसी घर में रहते हैं। बता दें कि कलाकार से सांसद बने सिन्हा ने अपने बंगले को आठ मंजिले में परिवर्तित किया था।

निगम अधिकारियों के मुताबिक, जांच अधिकारी ने पाया था कि घर में कई एक्सटेंशन और परिवर्तन किए गए थे। रिफ्यूज एरिया में दो टॉयलेट और एक पेंट्री बनाई गई थी। छत पर भी एक टॉयलेट, एक कार्यालय और एक पूजा घर बनवाया गया था। यह सब अवैध तरीके से बनाए गए थे।

अधिकारी ने आगे कहा कि सभी अवैध निर्माण को तोड़ दिया गया है, लेकिन पूजा घर को छोड़ दिया गया है। इसे कहीं और विस्थापित करने के लिए सिन्हा को समय दिया गया है। अगर इन्होंने पूजा घर यहां से नहीं हटाया तो दुबारा कार्रवाई की जाएगी। हमारा काम अभी खत्म नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि निर्धारित नियमों के अनुसार सिन्हा के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज की जाएगी।

दैनिक जागरण के मुताबिक शत्रुघ्न सिन्हा ने इस मामले पर कहा कि ‘सरकार स्वच्छता अभियान के अंतगर्त घर के अंदर टॉयलेट निर्माण को बढ़ावा दे रही थी, इसलिए हमने छत पर एक शौचालय निर्माण कराया ताकि बिल्डिंग में काम करने वाले लोग उसे इस्तेमाल में ला सके।

उन्होंने कहा कि मुझे बीएमसी द्वारा इसको हटाये जाने से कोई आपत्ति नहीं है। पूजा घर को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया गया है। मैं अधिकारियों को उनके काम में सहयोग कर रहा हूं।’ जब उनसे पूछा गया कि क्या यशवंत सिन्हा को समर्थन देने पर उन्हें ये खामियाजा भुगतना पड़ा तो उन्होंने हंसते हुए इसे टाल दिया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here