केंद्र सरकार ने खूनी इंटरनेट गेम ‘ब्लू व्हेल’ पर लगाया बैन

0

दुनियाभर में खूनी इंटरनेट गेम के नाम से मशहूर ‘ब्लू व्हेल गेम’ पर केंद्र सरकार ने रोक लगा दी है। सरकार ने इस गेम पर रोक लगाते हुए प्रमुख सर्च इंजन और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को यह गेम डाउनलोड करने संबंधी लिंक हटाने को कहा है।

ब्लू व्हेल
फोटो- NBC4i.com

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सर्च इंजन गूगल इंडिया, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और याहू इंडिया के अलावा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप को ब्लूव्हेल चैलेंज गेम को डाउनलोड करने की सुविधा या इससे जुड़ा कोई लिंक अपने प्लेटफॉर्म से तुरंत हटाने को कहा है।

ख़बरों के मुताबिक, मंत्रालय के वरिष्ठ निदेशक अरविंद कुमार के बीते 11 अगस्त को जारी निर्देश में ब्लूव्हेल चैलेंज गेम के अलावा इससे मिलते-जुलते नाम वाले ऑनलाइन गेम के लिंक भी हटाने को कहा है। आईटी मिनिस्ट्री के बाद अब दिल्ली सरकार ने भी इस गेम को हटाने की मांग की है।

बता दें कि भारत में इस खूनी इंटरनेट गेम ने दो किशोरों की जान ले ली है। गेम को खेलने के बाद सबसे पहले मुंबई के रहने वाले 14 साल के मनप्रीत ने सुसाइड कर लिया था। इसके बाद 10वीं में पढ़ने वाले अनकन डे ने गेम का चैलेंज पूरा करने के लिए खुदकुशी कर ली, अनकन पश्चिम बंगाल का रहने वाला था।

इनके अलावा मध्यप्रदेश के इंदौर में एक किशोर ने भी इस गेम को खेलने के बाद सुसाइड करने की कोशिश की थी, जिसे उसके ही कुछ दोस्तों ने बचा लिया था।

जानिए क्या है ‘द ब्लू व्हेल गेम’: रिपोर्ट्स के मुताबिक ब्‍लू व्‍हेल एक अंडरग्राउंड गेम है। इस गेम में खिलाड़ी को 50 टास्क दिए जाते हैं। एक-एक कर सारे टास्क पूरे करते रहने पर आखिरी में सुसाइड के लिए उकसाया जाता है। साथ ही हर टास्क पूरा होने के साथ प्लेयर को अपने हाथ पर एक कट लगाने के लिए कहा जाता है। आखिरी में तो आकृति उभरती है, वो व्हेल की होती है।

जानिए कब आया था इसका पहला मामला: बता दें कि रूस में यह गेम सबसे पहले साल 2013 में सामने आया था। साल 2015 में इस गेम की वजह से पहले सूइसाइड का मामला पता लगा था। ख़बरों के मुताबिक, अभी तक इस गेम से रूस में कई मौतें हो चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here