वीडियो: BJP प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने चुरा ली संबित पात्रा की ‘लाइमलाइट’, HAL संकट पर ‘कैशलेस’ जवाब देकर पत्रकारों को किया हैरान

0

हाल के महीनों में न्यूज चैनलों पर डिबेट्स के दौरान अपने प्रवक्ता संबित पात्रा द्वारा की गई वित्रित्र टिप्पणियों के कारण भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा है। भारतीय टीवी चैनलों पर बहस में शामिल होने वाले सभी पार्टियों के विवादित प्रवक्ताओं की सूची में संबित पात्रा का नाम सबसे ऊपर आता है। संबित पात्रा अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर भारी दिखने के चक्कर में कई बार विवादास्पद टिप्पणियां भी कर देते हैं, जिसकी वजह से उन्हें शर्मिंदगी का भी सामना करना पड़ता है।

लेकिन इस वक्त सोशल मीडिया पर बीजेपी के एक अन्य प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन अपने ‘दिव्य ज्ञान’ की वजह से छाए हुए हैं। न्यूज चैनल ‘आजतक’ पर सरकारी स्वामित्व वाली हिंदुस्तान एरोनॉटक्स लिमिटेड (एचएएल) में जारी कथित खराब वित्तीय संकट को लेकर हो रही चर्चा के दौरान पार्टी का पक्ष रखने के लिए मौजूद थे। इस दौरान शाहनवाज हुसैन ने अपने एक बयान से जहां खुद से लिए आलोचना का रास्ता खोल दिया है वहीं बीेजपी की जमकर किरकिरी का कारण भी बन गया है। इतना ही नहीं कांग्रेस प्रवक्ता के सिर पकड़कर बैठ गए।

दरअसल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से एचएएल को दिए गए आर्डर के बारे में संदेह खड़ा करने के संबंध में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में बताया कि केंद्र सरकार ने 2014 से 2018 के बीच में एचएएल के साथ 26 हजार 570 करोड़ रुपए के कॉन्ट्रैक्ट किए थे। इसके अलावा 73 हजार करोड़ के कॉन्ट्रैक्ट अभी पाइपलाइन में हैं।” उन्होंने कांग्रेस और पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी पर एचएएल के मुद्दे पर देश को गुमराह करने का आरोप लगाया।

लेकिन हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के सीएमडी आर माधवन ने इससे पहले ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ को बताया, ‘हमारा कैश इन हैंड निगेटिव में है। हमें 1,000 करोड़ रुपये ओवरड्राफ्ट के तौर पर कर्ज लेना पड़ा है। 31 मार्च तक हम 6,000 करोड़ रुपये के घाटे में होंगे, जो मुश्किल स्थिति होगी। हम दैनिक कामों के लिए कर्ज ले सकते हैं, लेकिन प्रोजेक्ट्स से जुड़ी खरीद के लिए कर्ज नहीं लिया जा सकता।’

शाहनवाज हुसैन ने बीजेपी की कराई किरकिरी

हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के सीएमडी आर माधवन की इस टिप्पणी पर पर बहस के दौरान ‘आज तक’ के एंकर निशांत चतुर्वेदी ने शाहनवाज हुसैन से सवाल किया कि एचएएल के चेयरमैन और सीएमडी ने दावा किया है कि एचएएल कैश-इन-हैंड नकारात्मक है। इसके चलते कंपनी अपने कर्मचारियों को सैलरी देने की स्थिति में नहीं है। लेकिन चएएल में कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए कैश संकट के सवाल पर हुसैन ने जवाब देकर सबको चौंका दिया।

एंकर को जवाब देते हुए उन्होंने कहा, “हम लोग कैशलेस इकोनॉमी वाले है” हुसैन की प्रतिक्रिया से एंकर भी स्तब्ध रह गए और उन्होंने कहा, “सर हम यहां एक गंभीर चर्चा कर रहे हैं’ इस पर बीजेपी प्रवक्ता ने दिव्य ज्ञान देते हुए फिर कहा कि सर यह गंभीर चर्चा है, आप क्या चाहते हैं कि ‘कैश इन हैंड’ होना चाहिए? जिसके बाद निशांत चतुर्वेदी ने सुहैन को समझाते हुए बताया कि सर एचएएल के सीएमडी के कैश इन हैंड का मतलब है कि वह सैलरी देने की बात कर रहे हैं और आप कैशलेस इकोनॉमी की बात कर रहे हैं।

अपने इस जवाब से जहां बीजेपी प्रवक्ता ने जाहिर कर दिया कि उन्हें कैश-इन-हैंड शब्द का मतलब नहीं पता था और वह इसे कैश मुद्रा और डिजिटल मुद्रा से कन्फ्यूज कर बैठे। आपको बता दें कि कैश-इन-हैंड, जो कि एक अकाउंटिंग का शब्द है और जिसका मतलब है कि कंपनी के पास खाते में कर्मचारी को सैलरी देने के लिए अथवा अपना अन्य जरूरी खर्च करने के लिए पैसे नहीं है। हुसैन का जवाब सुनकर कांग्रेस प्रवक्ता सिर पकड़कर बैठ गए।

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को राफेल विमान सौदे का ऑफसेट अनुबंध नहीं मिलने को लेकर सोमवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर फिर निशाना साधा और दावा किया कि वेतन नहीं मिलने पर एचएएल के बेहतरीन इंजीनियर एवं वैज्ञानिक अनिल अंबानी की कंपनी में जाने को मजबूर हो जाएंगे।

गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘एचएएल के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं हैं। क्या यह हैरान करने वाली बात नहीं है?’’ उन्होंने कहा, ‘‘अनिल अंबानी के पास राफेल (सौदा) है। अब उनको एचएएल के प्रतिभावान लोगों की जरूरत पड़ेगी ताकि उनके अनुबंध आगे बढ़ सकें।’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘‘वेतन के बिना एचएएल के सर्वश्रेष्ठ इंजीनियर एवं वैज्ञानिक अनिल अंबानी की कंपनी में जाने को विवश होंगे।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here