भाजपा और RSS पर गौरी लंकेश की हत्या का आरोप लगाने को लेकर BJP ने रामचंद्र गुहा को भेजा कानूनी नोटिस

0

हिंदुत्ववादी राजनीति पर मुखर नजरिया रखने वाली बेंगलुरु की 55 वर्षीय पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या का आरोप भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पर लगाने को लेकर प्रसिद्ध इतिहासकार रामचंद्र गुहा को कर्नाटक बीजेपी ने कानूनी नोटिस भेजा है।

File photo: THE HINDU

बता दें कि पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या को लेकर रामचंद्र गुहा ने पिछले दिनों कहा था कि गौरी की हत्या वर्तमान (बीजेपी) सरकार द्वारा प्रोत्साहित नफरत और असहिष्णुता का परिणाम है। गुहा के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कर्नाटक बीजेपी युवा मोर्चा ने सोमवार(11 सितंबर) को कानूनी नोटिस भेजा है।

बीजेपी की ओर से रामचंद्र गुहा को नोटिस भेजकर तीन के भीतर बिना शर्त माफी मांगने को कहा गया है। साथ बीजेपी ने कहा कि यदि वह ऐसा नहीं करते हैं तो उनके खिलाफ सिविल और क्रिमिनल ऐक्शन लिया जाएगा।

बता दें कि गुहा ने कहा था कि गौरी लंकेश के हत्यारे संघ परिवार से जुड़े हो सकते हैं। उन्होंने कहा था, ‘इसकी बहुत संभावना है कि गौरी लंकेश के हत्यारे भी उसी संघ परिवार से जुड़े हों, जिससे जुड़े लोगों ने ही दाभोलकर, पानसारे और कलबुर्गी की हत्या की थी।’

गौरतलब है कि हिंदुत्ववादी राजनीति पर मुखर नजरिया रखने वाली 55 वर्षीय पत्रकार गौरी लंकेश की बेंगलुरु स्थित उनके आवास पर अज्ञात लोगों ने मंगलवार(5 सितंबर) शाम गोली मारकर हत्या कर दी थी। कर्नाटक सरकार ने इस सनसनीखेज हत्याकांड की जांच के लिये विशेष जांच दल का गठन करने का फैसला किया है।

बता दें कि गौरी लंकेश की हत्या के बाद लगातार बीजेपी और आरएसएस से जुड़े नेता विवादित बयान दे रहे हैं। केरल हिंदू ऐक्य वेदी के राज्य प्रमुख केपी शशिकला टीचर ने धर्मनिरपेक्ष लेखकों को महामृत्युंज हवन कराने की सलाह दी है, ताकि उनका हश्र पत्रकार गौरी लंकेश जैसा न हो। बता दें कि ऐक्य वेदी आरएसएस समर्थक संगठनों का साझा मंच है।

न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक, पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या से बीजेपी और उसकी विचारधारा के लोगों को जोड़ने के आरोपों की ओर इशारा करते हुए पी शशिकला ने शुक्रवार को कहा था कि उन्हें इस तरह का काम करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि कर्नाटक में कांग्रेस इस तरह के मुद्दों को भुनाने का प्रयास कर रही है और पार्टी लगातार चुनावी हार का सामना कर रही है।

साथ ही शशिकला ने केरल के धर्मनिरपेक्ष लेखकों से आग्रह किया कि गौरी लंकेश जैसा कुछ उनके साथ नहीं हो, उससे बचने के लिए भगवान शिव के मंदिरों में मृत्युंजय जाप कराएं जो लंबे जीवन की प्रार्थना के लिए किया जाता है।
मुख्यमंत्री पी विजयन और कांग्रेस के नेताओं ने शशिकला के भाषण की तीखी आलोचना की।

विजयन ने कन्नूर में शशिकला का नाम लिये बिना कहा कि चिंतकों और लेखकों को मृत्युंजय जाप कराने के लिए कहना केरल के समाज द्वारा की गई प्रगति को नुकसान पहुंचाना है। वहीं इससे पहले कर्नाटक के बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री जीवराज ने कहा था कि अगर गौरी लंकेश RSS के लोगों की मौत के जश्न के बारे में ना लिखती तो शायद आज जिंदा होतीं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here