बंगाल हिंसा: ‘फर्जी न्यूज’ शेयर करने के आरोप में BJP आईटी सेल के सचिव गिरफ्तार

0
>

पश्चिम बंगाल के बशीरहाट में हिंसक घटनाओं के बाद अब भी तनाव की स्थिति बनी हुई है। इस बीच वहां की घटनाओं पर अब सियासत पूरी तरीके से गरमाई हुई है। इस हिंसा की आग में अब भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता घी डालने का काम कर रहे हैं। 

चुनावी लाभ लेने के लिए बीजेपी नेताओं ने अब फर्जी खबरों और तस्वीरों के सहारे अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम कर रहे हैं। इस बीज फर्जी न्यूज शेयर करने के आरोप में बीजेपी आईटी सेल के सचिव को गिरफ्तार हो गए हैं। बंगाल पुलिस ने बीजेपी सचिव को फर्जी न्यूज शेयर कर राज्य में सांप्रदायिक हिंसा को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

इस बारे में जानकारी देते हुए पश्चिम बंगाल सीआईडी ने ट्वीट कर जानकारी दी है। सीआईडी ने मंगलवार(12 जुलाई) को ट्वीट कर बताया कि पश्चिम बंगाल स्थित आसनसोल के बीजेपी आईटी सेल के सचिव तरूण सेनगुप्ता को बंगाल हिंसा मामले में फर्जी न्यूज शेयर करने के आरोप में आज गिरफ्तार किया गया है।

Also Read:  ऐसा क्या हुआ कि किरण बेदी को छोड़ना पडे़गा पुदुच्चेरी ?

बता दें कि पश्चिम बंगाल के बशीरहाट में हिंसक घटनाओं को लेकर तरुण सेनगुत्ता के अलावा फर्जी तस्वीर शेयर करने के मामले में बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा की भी मुश्किलें बढ़ गई हैं। इस मामले में शर्मा के खिलाफ दो अलग-अलग शिकायत दर्ज की गई है। खास बात यह है कि शर्मा के खिलाफ यह शिकायतें गैरजमानती धाराओं के तहत दर्ज हुई हैं।

Also Read:  मुजफ्फरनगर दंगों के 800 अभियुक्तों की अब भी तलाश जारी

इंडिया टुडे के मुताबिक, तृणमूल कांग्रेस के समर्थक द्वारा पहली शिकायत दक्षिण कोलकाता के रिजेन्ट पार्क थाने में कराई गई है, जबकि दूसरा FIR गारियाहत पुलिस थाने में कई गैर-जमानती धाराओं के तहत दर्ज की गई है। बता दें कि बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने बंगाल दंगों की बताकर 2002 में हुए गुजरात दंगों की तस्वीरें शेयर कर हंगामा खड़ा कर दिया था। इस फर्जी तस्वीर का सबसे पहले ‘जनता का रिपोर्टर’ ने खुलासा किया था।

बीजेपी नेत्री नूपुर शर्मा ने शनिवार(8 जुलाई) को लोगों से दिल्ली की जंतर मंतर पर आने का आह्वान करते हुए ‘बंगाल को बचाने’ और ‘हिंदुओं को बचाने’ की गुजारिश की थी। साथ ही शर्मा ने लिखा था, “बोलो, क्योंकि पहले ही बहुत देर हो चुकी है! आज शाम 5 बजे जंतर मंतर आइए। साथ ही उन्होंने #सेवबंगाल और #सेवहिंदू का हैशटैक लगाई थीं।हालांकि, बीजेपी नेत्री ने अपने ट्वीट में जिस तस्वीर का इस्तेमाल किया था, वह 2002 में हुए मुस्लिम विरोधी गुजरात दंगों की थी, जिसमें 2000 से अधिक लोग मारे गए थे। उस वक्त नरेंद्र मोदी(वर्तमान में प्रधानमंत्री) गुजरात के मुख्यमंत्री थे।

Also Read:  गुरुग्राम: रयान स्कूल में खौफ बरकरार, प्रद्युम्‍न की क्‍लास में आए सिर्फ 4 बच्‍चे

पूर्व में कई अखबारों और वेबसाइटों पर गुजरात दंगे की लेखों में यह तस्वीर सामने आ चुकी है। इसके अलावा प्रसिद्ध अमेरिकी अखबार द न्यूयॉर्क टाइम्स में एलेन बैरी द्वारा लिखे गए एक लेख में इसी फोटो का इस्तेमाल किया गया है। जो 2 जून 2016 को प्रकाशित हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here