‘BJP ने गुजरात की जनता का तिरस्कार किया है, विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान खत्म हो चुका है, लेकिन बीजेपी ने अभी तक कोई घोषणा पत्र जारी नहीं किया है’

0

गुजरात में 9 और 14 दिसंबर को होने वाले विधानसभा चुनावों के पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार का शोर थम चुका है। अब सभी राजनीतिक दल के उम्मीदवार डोर-टू डोर कैम्पेन में जुट चुके हैं। गुरुवार (7 दिसंबर) को पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार का आखिरी दिन होने के कारण सभी राजनीतिक दलों के कई दिग्गज चुनाव प्रचार में जान फूंकते हुए नजर आए।इस बीच सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने सबको चौंकाते हुए इस बार अपना मैनिफेस्टो (घोषणा-पत्र) जारी नहीं किया है। यह पहली बार हो रहा है जब चुनाव से पहले बीजेपी ने अपना मेनिफेस्टो जारी नहीं किया है। जबकि कांग्रेस ने अपना घोषणा-पत्र एक सप्ताह पहले ही सबके सामने ला दिया था। बीजेपी द्वारा घोषणा-पत्र जारी नहीं किए जाने को लेकर कांग्रेस ने उन पर निशाना साधा है।

बीजेपी के गुजरात में घोषणा पत्र न जारी करने पर मौके को भुनाते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सहित अन्य विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने भी बीजेपी पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर इसे गुजरात की जनता का अपमान बताया है।

गुरुवार (7 दिसंबर) को बीजेपी पर निशाना साधते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष ने ट्वीट किया, ”बीजेपी ने गुजरात की जनता का अविश्वसनीय रूप से तिरस्कार किया है। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान खत्म हो चुका है, लेकिन बीजेपी की ओर से अभी तक सूबे की जनता के लिए कोई घोषणा पत्र जारी नहीं किया गया है। गुजरात के भविष्य के लिए बीजेपी ने न तो कोई विजन पेश किया है और न ही किसी तरह का आइडिया।”

वहीं, अहमद पटेल ने लिखा, ‘बीजेपी ने गुजरात में मतदाताओं के सामने घोषणा पत्र जारी करने या अपना विजन रखने की भी परवाह नहीं की। क्योंकि, 1- विकास कभी उनका एजेंडा नहीं था, 2- वे 2012 में किए वादों से जुड़े सवालों के जवाब नहीं देना चाहते, 3- उन्हें एहसास हो गया है कि उनकी हार तय है।’

अहमद पटेल के अलावा बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी बीजेपी को निशाना बनाते हुए एक ट्वीट किया। तेजस्वी ने लिखा, ’22 साल से सत्ताधारी बीजेपी का गुजरात में कोई घोषणा पत्र और विजन डॉक्युमेंट है ही नहीं सिवाय बाबर, खिलजी और औरंगजेब को कब्र से निकालने के। मुगल शासकों का ध्यान करने से विकास आएगा क्या?’

बता दें कि मैनिफेस्टो या घोषणा पत्र में पार्टी उन वादों को ऐलान करती है जिन्‍हें सरकार बनने के बाद वह अगले पांच सालों में पूरा करेगी। लेकिन गुरुवार को गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए प्रचार खत्म हो गया। इसके बावजूद भी बीजेपी ने गुजरात के लिए अपना घोषणा पत्र जारी नहीं किया है। वहीं, गुजरात चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपने घोषणा-पत्र में ‘खुश रहे गुजरात, खुशहाल गुजरात’ का नारा भी दिया है।

कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कई लोक-लुभावन वादे किए गए हैं। कांग्रेस ने घोषणा पत्र में गुजरात के किसानों के कर्ज माफ करने, आधी कीमत में बिजली देने, 20 लाख युवाओं को रोजगार देंगे, पेट्रोल की कीमत 10 रुपये लीटर सस्ता करने, उच्च शिक्षा पाने वाले छात्रों को स्मार्टफोन और लैपटॉप देने के वादे किए हैं।

ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #BJPKaManifestoKahanHai

सोशल मीडिया पर भी गुजरात के लिए अपना घोषणा पत्र जारी नहीं करने को लेकर बीजेपी की जमकर आलोचना हो रही है। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर शुक्रवार (8 दिसंबर) सुबह से ही #BJPKaManifestoKahanHai ट्रेंड कर रहा है। इस हैशटैग के लिए भारी संख्या में यूजर्स ने बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here