CBSE पेपर लीक मामला: विपक्ष के बाद अब BJP सांसद ने भी PM मोदी पर साधा निशाना, सीबीएसई पर भी उठाए सवाल

0

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं क्लास का गणित और 12वीं का अर्थशास्त्र परीक्षा के पेपर लीक होने के बाद लाखों छात्रों में बेहद नाराजगी है। साथ ही विपक्षी पार्टियां भी पेपर लीक मामले में भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) और मोदी सरकार पर सीधे तौर पर हमलावर है। विपक्षी पार्टियों के साथ-साथ अब इस मामले को लेकर पार्टी के अंदर से ही आवाजें उठनी शुरू हो गई हैं।

पेपर लीक

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में पार्टी लाइन से अलग अपने बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहने वाले अभिनेता से राजनेता बने शत्रुघ्न सिन्हा ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है। सीबीएसई परीक्षा का प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में एक के बाद एक ताबड़तोड़ किए गए ट्वीट किए और पीएम मोदी से कहा कि अगर आप मन की बात नहीं कर सकते तो कम से कम दिल की बात तो कीजिए। क्यों बच्चों और युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने सीबीआई पर भी सवाल खड़े किए हैं।

बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने शनिवार(31 मार्च) को ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘सीबीएसई की असफलता और स्टूडेंट्स व पैरेंट्स को परेशान करना शर्म, दुख और चिंता की बात है। सरकार को कुछ करना चाहिए, सिर्फ सफाई देने से काम नहीं चलेगा। हमारे माननीय पीएम जी को बोलना चाहिए, अगर ‘मन की बात’ नहीं है तो कम से कम दिल की बात बोलनी चाहिए।’

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि, ‘सीबीएसई मामले में सरकार को न सिर्फ माफी मांगनी चाहिए, बल्कि जल्द ही इसकी तह तक पहुंचना चाहिए। जितनी जल्दी हो, उतना अच्छा होगा।’

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा कि, सिर्फ एक पेपर का रि-एग्जाम क्यों? सभी पेपर का क्यों नहीं? अन्य पेपर्स का पर्चा लीक नहीं हुआ, इसकी कौन गारंटी लेगा? क्या रि-एग्जाम करवाना समाधान है? साथ ही उन्होंने लिखा कि, क्यों देश के करीब 28-30 लाख विद्यार्थी परेशान हों और फिर से मानसिक तनाव के दौर से गुजरें, जब उन्होंने इसके लिए कोई गलती ही नहीं की? वो सिर्फ इसलिए भुगतें क्योंकि यह पूरा मामला सीबीएसई की नाकामी और शिक्षा माफिया की देन है।

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में सीबीआई पर भी सवाल खड़े किए हैं। बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने एक ट्वीट में लिखा कि, इसकी गारंटी कौन लेगा कि दुबारा होने वाले रि-एग्जाम में घपला नहीं होगा? इस जांच एजेंसी ने अब अपनी चमक खो दी है। यह अब पवित्र गाय नहीं रह गई मगर बिक्री योग्य गाय जरूर बन गई है। उन्होंने लिखा है कि क्या ऐसी स्थिति में हमें अब इस मामले की जांच का जिम्मा सीबीआई को सौंपना चाहिए?

बता दें कि, यह कोई पहली बार नहीं है शत्रुघ्न सिन्हा ने पीएम मोदी पर निशाना साधा हो। शत्रुघ्न सिन्हा कई मुद्दों पर पार्टी और पीएम मोदी की आलोचना करते रहें है।

बता दें कि, इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार(30 मार्च) को एक बार फिर से इसी मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। इस बार राहुल गांधी ने पीएम मोदी की ओर से छात्रों के लिए लिखी गई किताब एग्जाम वॉरियर्स के बहाने पीएम पर निशाना साधा था।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार(30 मार्च) को ट्वीट करते हुए लिखा था कि, परीक्षा में छात्रों का तनाव दूर करने के लिए पीएम ने एग्जाम वॉरियर बुक लिखी थी। साथ ही उन्होंने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए लिखा कि, अब उनकी अगली किताब होगी एग्जाम वॉरियर-2, जो पेपर लीक के बाद परेशान स्टूडेंट्स और परिजनों को तनाव मुक्त रहने के टिप्स देगी।

बता दें कि, इससे पहले भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार(29 मार्च) को पेपर लीक कांड के बहाने ट्वीट कर मोदी सरकार पर हमला बोला था। एक ट्वीट के जरीए उन्होंने RSS और BJP पर शैक्षणिक संस्थानों को बर्बाद करने का भी आरोप लगाया था।

राहुल ने गुरुवार को ट्वीट करते हुए लिखा था कि, ‘परीक्षा में पेपर लीक होने से लाखों छात्रों के भविष्य पर पानी फिर गया है, कांग्रेस ने हमेशा शैक्षणिक संस्थानों को सुरक्षित रखा है। ये तब हो रहा है जब बीजेपी-आरएसएस जैसे संगठन संस्थाओं को नष्ट करने में लगे है। मेरा विश्वास कीजिए ये तो अभी शुरुआत है।’

बता दें कि, इससे पहले राहुल गांधी ने गुरुवार(29 मार्च) की सुबह ट्वीट कर लिखा था कि, ‘कितने लीक? डेटा लीक! आधार लीक! SSC Exam लीक! Election Date लीक! CBSE पेपर्स लीक! हर चीज में लीक है, चौकीदार वीक है।’ कांग्रेस अध्यक्ष ने इसके साथ ही ‘बस एक साल और’ हैशटैग का इस्तेमाल किया है।

बता दें कि, सीबीएसई बोर्ड की 10वीं क्लास के गणित और 12वीं क्लास के अर्थशास्त्र का पेपर लीक हुआ था। पेपर लीक होने के चलते सीबीएसई ने दोनों पेपर रद्द कर दिए थे। वहीं, अब सीबीएसई ने 12वीं के अर्थशास्त्र की परीक्षा के पुनर्परीक्षा की तारीख 25 अप्रैल तय की है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने पेपर लीक से जुड़े मामले में कई ट्यूटर, छात्रों और उनके परिजनों समेत करीब 60 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। पूछताछ के दौरान पता चला कि वॉट्सऐप पर पेपर दोस्ती में सर्कुलेट किए गए थे। रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले में पुलिस ने वॉट्सऐप के उन ग्रुप एडमिन से भी पूछताछ की, जिन पर ये सर्कुलेट किया गया था। पुलिस पेपर लीक के सोर्स का पता लगाने की कोशिश कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here