झारखंड विधानसभा चुनाव क्यों हारी भाजपा, पार्टी सांसद निशिकांत दुबे ने गिनाए चौंकाने वाले कारण

0

झारखंड विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की हार के बाद पार्टी के कई नेता निराश हैं और पार्टी को अभी से 2024 के चुनाव की तैयारी में जुटने की भी नसीहत दे रहे हैं। इस बीच, राज्य की गोड्डा सीट से भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने चौंकाने वाला बयान दिया है। निशिकांत दुबे ने साफ शब्दों में कहा है कि अपनों से ज्यादा बाहरियों पर भरोसा करने से पार्टी चुनाव हारी है। उन्होंने पार्टी हाईकमान को ईमानदार बताते हुए उम्मीद जाहिर की है कि आगे सब अच्छा होगा।

झारखंड

अपने फेसबुक पोस्ट में भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने लिखा, “जो झारखंड का चुनाव विश्लेषण कर रहे हैं, मुझे लगता है वे सभी जल्दबाजी कर रहे हैं। भाजपा के बागियों के कारण या कार्यकर्ताओं के आकलन के कारण हम हारे हैं, दुसरे पार्टी से आए लोगों पर हमने ज़्यादा भरोसा किया। जैसे चतरा से सत्यानन्द भोक्ता, लातेहार से बैद्यनाथ राम, बहरागोडा समीर मोंहती, बरही से उमाशंकर यादव, बरकट्टा से अमित यादव व जमशेदपुर सरयू राय इत्यादि की जीत इसका उदाहरण है।”

निशिकांत दुबे ने चुनाव से पहले एजेएसयू (AJSU) से गठबंधन टूट जाने पर भी हैरानी जाहिर की है। निशिकांत दुबे ने आगे लिखा, “आजसू किन कारणों से बाहर हुआ यह एक पहेली है, सुदेश महतो जी मेरे अच्छे मित्र हैं व सुलझे इन्सान हैं, लड़ाई के कारण उन्होंने अपनी सबसे मज़बूत सीट रामगढ़ तक गवा दी। कुछ इंतजार करिए, पार्टी का केन्द्रीय नेतृत्व हमारा सबसे मज़बूत व ईमानदार है, हमारा वोट सुरक्षित है। नई सरकार को शुभकामना 2024 की लड़ाई के लिए आज से तैयारी शुरु।”

गौरतलब है कि, बरकट्ठा सीट पर भाजपा के बागी अमित यादव ने 24 हजार से ज्यादा वोटों से भाजपा प्रत्याशी जानकी यादव को हराया। जानकी यादव जेवीएम से भाजपा में आए थे। इस सीट से जब अमित यादव को टिकट नहीं मिला तो वह निर्दलिय मैदान में उतर गए। इसी तरह बहरागोड़ा सीट पर भाजपा के बागी समीर मोहंती ने 60,565 वोटों से जीतकर टिकट न देने के फैसले को गलत साबित कर दिखाया। भाजपा ने समीर मोहंती को नजरअंदाज कर दूसरे दल से आए कुनाल सदांगी पर भरोसा जताया था। पार्टी ने मौजूदा 13 विधायकों का टिकट काटकर दूसरे दलों से आए दो दर्जन से अधिक लोगों पर इस बार भरोसा जताया था। मगर इसमें अधिकांश उम्मीदवार हार गए।

गौरतलब है कि, झारखंड विधानसभा चुनावों में झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन को 47 सीटों पर जीत मिली है। इसमें झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) को 30, कांग्रेस को 16 और राजद को एक सीट मिली है। वही, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को सिर्फ 25 सीटों से संतोष करना पड़ा है। बता दें कि, राज्य में बहुमत का आंकड़ा 41 है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here