भारतीय वायुसेना की प्रसंशा करने की बजाए ‘‘मोदी जिंदाबाद’’ के नारे लगाने पर दिल्ली विधानसभा से बाहर निकाने गए BJP विधायक

0

पाकिस्तान में मंगलवार को आतंकवादी शिविरों पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बाद वायुसेना की सराहना करने की बजाए कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में नारेबाजी करने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायकों को दिल्ली विधानसभा से बाहर कर दिया गया। दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने कहा कि बीजेपी विधायकों को भारतीय वायुसेना की प्रसंशा करने की बजाए ‘‘मोदी जिंदाबाद’’ के नारेबाजी करने के कारण विधानसभा से बाहर कर दिया गया।

@Gupta_vijender

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी विधायक भारतीय वायुसेना की सराहना के बजाय ‘मोदी जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। वहीं, बीजेपी का दावा है कि उनके नेताओं को जब मार्शलों ने बाहर निकाला तो उस समय वह ‘‘भारत माता की जय’’ और ‘‘वंदे मातरम’’ के नारे लगा रहे थे। विपक्षी दल ने गोयल की आलोचना की और कहा कि हमले के बारे में बोलने का वक्त नहीं दिया गया।

दरअसल, रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय वायुसेना की जांबाजी को सलाम करते हुए पहले दिल्ली विधान सभा में एयरफोर्स और भारत माता जिंदाबाद के नारे लगे। विधानसभा में मौजूद सभी आम आदमी पार्टी के साथ बीजेपी विधायकों ने नारे लगाए। हालांकि, इसी बीच बीजेपी विधायक बधाई संदेश पढ़ना चाहते थे जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बधाई दी गई थी। इसपर विधानसभा अध्यक्ष ने अनुमति नहीं दी और हंगामा शुरू हो गया। सदन में हंगामा करने के चलते बीजेपी विधायकों को मार्शलों ने सदन से बाहर कर दिया।

दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंदर गुप्ता ने दावा किया कि उन्होंने भारतीय वायुसेना को बधाई देने के लिए एक प्रस्ताव पारित करने की पेशकश की थी लेकिन ‘आम आदमी पार्टी’ ने इसका विरोध किया। गुप्ता ने ट्वीट कर कहा, ‘‘पूरा देश इस हवाई हमले पर गर्व कर रहा है लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है हमें उन्हें बधाई देने की अनुमति नहीं दी गई, बल्कि हमें मार्शल से बाहर निकलवा दिया गया।’’

विधायकों ने की सराहना

हंगामे से पहले दिल्ली विधानसभा के बजट सत्र में भाग ले रहे सभी पक्ष-विपक्ष के विधायकों ने पाकिस्तान क्षेत्र के अंदर आतंकी ठिकानों पर मंगलवार तड़के हवाई हमले करने को लेकर भारतीय वायु सेना की खड़े होकर स्वागत और सराहना की। हवाई हमलों के लिए दिल्ली विधानसभा के अध्यक्ष राम निवास गोयल ने भारतीय वायु सेना को बधाई दी, जबकि उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने पुलवामा हमले में शहीद हुये जवानों को बजट समर्पित किया।

अपने बजट भाषण में सिसौदिया ने कहा, ‘हमें अपने सशस्त्र बलों पर गर्व है और मैं पुलवामा आतंकी हमले में शहीद होने जवानों को अपना बजट समर्पित करना चाहूंगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं उस समय बजट पेश कर रहा हूं जब पुलवामा हमले के बाद देश आईएएफ पर गर्व कर रहा है।’’ उन्होंने कहा कि यह बजट शहीदों के सपने को पूरा करने के लिए है। उनके परिवारों और उनके बच्चों के लिए है जो बेहतर शिक्षा हासिल कर सकते हैं।

भारतीय सेना ने 2 हफ्ते में ही ले लिया बदला

बता दें कि भारत ने मंगलवार तड़के बड़ी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े शिविर को तबाह कर दिया, जिसमें लगभग 350 आतंकवादी और उनके प्रशिक्षक मारे गए। कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मोहम्मद आतंकी हमले के 12 दिन बाद भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के तरफ नियंत्रण रेखा पार कर कई जगहों पर आतंकी शिविरों पर बम गिराए हैं।

वायु सेना की कार्रवाई की पुष्टि करते हुए भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि भारतीय वायु सेना ने मंगलवार को तड़के सीमापार स्थित आतंकी गुट जैश ए मोहम्मद के ठिकाने पर बड़ा एकतरफा हमला किया जिसमें बड़ी संख्या में आतंकवादी, प्रशिक्षक, शीर्ष कमांडर और जिहादी मारे गए। पाकिस्तान ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद इन आतंकवादियों को उनकी सुरक्षा के लिए इस शिविर में भेजा था। भारतीय वायुसेना का यह हमला अत्यंत त्वरित और सटीक था।

भारत सरकार के सूत्रों ने पीटीआई को बताया कि मिराज-2000 जेट विमानों ने बालाकोट, मुजफ्फराबाद और चकोटी में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों पर सुनियोजित हमला कर बम गिराए और उन्हें नष्ट कर दिया। सूत्रों ने कहा कि हमला किसी सैन्य ठिकाने पर नहीं, केवल आतंकी ठिकाने पर किया गया और इसे ‘‘हमलों को रोकने’’ के उद्देश्य से ‘‘ऐहतियात’’ के तौर पर अंजाम दिया गया। उन्होंने कहा कि यह ठिकाना जंगल में एक पहाड़ी पर स्थित था और पांच सितारा रिजॉर्ट शैली में बना था। इसके चलते यह ‘‘आसान निशाना’’ बन गया तथा आतंकवादियों को नींद में ही मौत के आगोश में सुला दिया गया।

सूत्रों ने कहा कि संदर्भ पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत स्थित शहर का था जो नियंत्रण रेखा से करीब 80 किलोमीटर दूर और ऐबटाबाद के नजदीक स्थित है, जहां अमेरिकी बलों ने अलकायदा के सरगना ओसामा बिन लादेन को ढेर किया था। हालांकि, गोखले ने इस बारे में भी ब्योरा नहीं दिया कि हमले किस तरह किए गए, लेकिन सूत्रों ने बताया कि बम गिराने के लिए मिराज 2000 जेट विमानों के बेड़े का इस्तेमाल किया गया जिनमें अन्य विमान भी शामिल थे।
बता दें कि 12 दिन पहले फरवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर किए गए आत्मघाती हमले में बल के 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी जैश ए मोहम्मद ने ली थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here