उत्तराखंड: BJP विधायक बोले- ‘जब हम लोग मस्जिद में नहीं जाते तो मंदिर में क्या कर रहा था मुस्लिम युवक, हमारी संस्कृति को नष्ट करने वालों से हिंदू सेना मुकाबला करेगी’

0

सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में कथित हिंदू संगठनों से जुड़े लोग एक मुस्लिम युवक की जान लेने पर उतारू हैं, लेकिन फरिश्ते के रूप में उस वक्त एक सिख पुलिसकर्मी सामने आकर उस युवक को मरने से बचा लिया। अगर सिख पुलिसकर्मी उस वक्त नहीं आया होता तो हिंदुत्व गुंडों द्वारा शायद वहां वो लड़का पीटकर मार डाला जाता, मगर पुलिसकर्मी की बहादुरी की वजह से ऐसा नहीं हुआ।

इस बहादुर पुलिसकर्मी का नाम है गगनदीप सिंह। गगनदीप उत्तराखंड पुलिस में सब-इंस्पेक्टर हैं। अपर पुलिस महानिदेशक (कानून और व्यवस्था) अशोक कुमार ने बताया कि यह घटना मंगलवार (22 मई 2018) की है, जब मुस्लिम युवक हिंदू लड़की से मिलने रामनगर से करीब 15 किलोमीटर दूर ​गर्जियादेवी मंदिर गया था। सोशल मीडिया पर सिख पुलिसकर्मी की जमकर तारीफ हो रही है। बता दें कि मंदिर में वीएचपी समेत दक्षिणपंथी संगठन के सदस्यों ने मुस्लिम युवक को हिंदू लड़की के साथ देखा था।

सिख पुलिसकर्मी की हो रही तारीफों के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक ने भीड़ के हमले को जायज ठहराते हुए कहा है कि हिंदूवादी संगठनों की उन लोगों के खिलाफ लड़ाई जारी रहेगी, जो हमारी हिंदू संस्कृति को खत्म करना चाहते हैं। रुद्रपुर से विधायक राजकुमार ठकराल ने कहा कि कुछ बाहरी लोग यहां आकर हिंदुओं के पूजास्थल अपवित्र करते हैं। जब हमलोग मस्जिद नहीं जाते हैं तो फिर क्यों वे लोग मंदिरों में आते हैं? आखिर उनका ऐसा करने का मकसद क्या है?

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक बीजेपी विधायक ने मंदिर में मुस्लिम युवकों की मौजूदगी पर आपत्ति जताई। उन्होंने कहा, “जो लोग रामनगर के माहौल को खराब करना चाहते हैं उन्हें सबक सिखाने का वक्त आ गया है, यदि रामनगर पुलिस और प्रशासन नहीं जागती है तो हिंदू सेना को आगे आना होगा और जो हिंदू संस्कृति को नष्ट करना चाहते हैं उनसे मुकाबला करना पड़ेगा। विधायक राजकुमार ठकराल ने सवाल खड़ा किया कि वे लोग मंदिर परिसर में हिंदू लड़की के साथ क्या कर रहे थे, वे हिंदुआों को भावनाओं को सुलगा रहे थे।

बीजेपी विधायक ने कहा कि यदि मंदिरों की हालत में सुधार नहीं होता है तो हिंदू सेना हालात को नियंत्रित करेगी। जो लोग धर्म परिवर्तन और लव जिहाद के जरिए हिंदू संस्कृति को चोट पहुंचा रहे हैं, उन्हें हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि जब हम लोग मदरसों और मस्जिदों में नहीं जाते हैं तो मुसलमान मंदिरों में क्यों गए? ठुकराल ने प्रशासन को चेतावनी भरे लहजों में कहा कि यदि पुलिस और स्थानीय प्रशासन नींद से नहीं जगा तो हिंदू सेना के पास कदम उठाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा।

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, यह पुरी घटना उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित रामनगर का है। द लल्लनटॉप की रिपोर्ट के मुताबिक 22 मई, 2018 को रामनगर में स्थित एक मंदिर में एक कपल छुपकर मिलने आया था, जिसे लोगों ने देख लिया। पूछताछ में मालूम चला कि लड़का मुसलमान है और लड़की हिंदू है। इसके बाद वहां हिंदू संगठन के हिंदुत्व गुंडे भी आ गए और हंगामा शुरू कर दिया। देखते-देखते वहां भारी संख्या में भीड़ इकट्ठा हो गई और हंगामा शुरू हो गया।

भीड़ में शामिल हिंदुत्व गुंडे उस मुस्लिम लड़के को पीटना चाहते थे। शायद उस दिन वहां वो लड़का हिंदुत्व गुंडों द्वारा पीटकर मार डाला जाता। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, क्योंकि वहां उस मुस्लिम युवक को बचाने के लिए फरिश्ते के रूप में गगनदीप सिंह नाम का सिख पुलिसकर्मी सामने आ गया और अपनी बहादुरी पेश करते हुए आखिरकार लड़के को बचा ही लिया। गगनदीप उत्तराखंड पुलिस में सब-इंस्पेक्टर हैं।

इस घटना का सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में आप देख सकते हैं कि भीड़ में शामिल हिंदुत्व गुंडे युवक की जान लेने पर उतारू हैं। उनके बीच गगनदीप सिंह उस लड़के को अपनी बाहों में थामे लोगों को समझा रहे हैं। लोग कह रहे हैं कि वो उस लड़के को पीटना चाहते हैं, लेकिन गगनदीप सिंह की कोशिश है उसे सुरक्षित भीड़ से निकालकर ले जाना। इसी बीच भीड़ में शामिल हिंदुत्व गुंडे उस लड़के को पीटने की कोशिश करते हैं। और गगनदीप उस लड़के को बचाने के लिए उसे अपने सीने से चिपटा लेते हैं।

उस लड़के को आखिरकार सिख पुलिसकर्मी अपनी बहादुरी की बदौलत बचाकर ले जाने में कामयाब हो गया। द लल्लनटॉप की रिपोर्ट के मुताबिक भीड़ में बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद् के भी लोग शामिल थे। पुलिस ने बताया कि आस-पास के इलाकों में रहने वाले लड़के-लड़कियां अक्सर मंदिर में एक-दूसरे से मिलने आते हैं। जिसमें हिंदू और मुस्लिम दोनों समुदाय के युवक आते हैं। पुलिस ने बताया कि इस घटना में जो कपल था, उसमें लड़का और लड़की, दोनों बालिग थे। लड़की अपनी मर्जी से उस लड़के के साथ आई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here