मध्य प्रदेश: आकाश विजयवर्गीय द्वारा सरकारी कर्मचारी को पीटने के बाद अब एक और BJP विधायक ने अधिकारी को दी सरेआम धमकी, बोलीं- ‘आप यहां नौकरी नहीं कर पाओगे’

0

मध्य प्रदेश में आए दिन जनप्रतिनिधियों और सरकारी अधिकारियों के बीच टकराव के मामले सामने आ रहे हैं। इंदौर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय द्वारा नगर निगम के एक अधिकारी को पीटने के बाद अब भाजपा की एक और विधायक द्वारा सरकारी अधिकारी को धमकी देने का मामला सामने आया है। भाजपा की महिला विधायक एक सरकारी बैठक के दौरान सभी के सामने अधिकारी को धमकी देते हुए कहा कि आप यहां नौकरी नहीं कर पाओगे।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, ताजा मामला विदिशा जिले का है, जहां गंजबासौदा विधायक लीना संजय जैन ने ग्यारसपुर के जनपद कार्यालय में हुई बैठक में सभी के सामने कृषि विभाग के अधिकारी को जमकर फटकार लगा दी, इस दौरान विधायक ने अधिकारी को धमकी भी दे डाली कि आप ग्यारसपुर में नौकरी नहीं कर पाओगे। कथित तौर पर अधिकारी भाजपा विधायक को एक आधिकारिक कार्यक्रम में आमंत्रित करना भूल गए थे। एएनआई के मुताबिक, यह मामला बुधवार (26 जून) का है।

स्थानीय मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ग्यारसपुर क्षेत्र में कृषि विभाग के आयोजन की जानकारी विधायक को ना देने एवं उसमें पूर्व विधायक को आमंत्रित करने को लेकर वह अधिकारी पर भड़क गईं। ग्यारसपुर के कृषि विभाग के अधिकारी चौधरी को फटकार लगाते हुए विधायक लीना जैन ने कहा आप मेरे अधिकारो का हनन कर रहे हो। इस दौरान विधायक ने सार्वजनिक रूप से बैठक के दौरान अधिकारी को ग्यारसपुर में नौकरी न कर पाने की धमकी भी दे डाली।

आकाश विजयवर्गीय ने अधिकारी को बैट से पीटा

बता दें बुधवार को ही मध्य प्रदेश के इंदौर में नगर निगम के एक अधिकारी की पिटाई के मामले में भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार किया गया था। जर्जर मकान गिराने गई इंदौर नगर निगम की टीम के साथ बुधवार (26 जून) को विवाद के दौरान शहरी निकाय के एक अधिकारी को क्रिकेट बल्ले से पीटने के मामले में गिरफ्तार स्थानीय आकाश विजयवर्गीय को जमानत देने से एक स्थानीय अदालत ने इंकार कर दिया।

प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट (जेएमएफसी) गौरव गर्ग ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद विजयवर्गीय की जमानत याचिका खारिज कर दी। जिला लोक अभियोजन अधिकारी अकरम शेख ने बताया कि अदालत ने जमानत याचिका खारिज करने के बाद भाजपा विधायक को 11 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। आकाश (34) भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे हैं और नवंबर 2018 का विधानसभा चुनाव जीतकर पहली बार विधायक बने।

आकाश विजयवर्गीय का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है जिसमें वह इंदौर में क्रिकेट बैट से नगर निगम के एक अधिकारी की सरेआम पुलिस की मौजूदगी में पिटाई करते हुए नजर आ रहे हैं। इंदौर में नगर निगम कर्मचारी एक जर्जर मकान तोड़ने आए थे। मौके पर पहुंचे भाजपा विधायक आकाश ने अधिकारियों को वहां से चले जाने के लिए कहा, लेकिन जब वो नहीं हटे तो आकाश हाथ में बल्ला लेकर आए और उनकी पिटाई शुरू कर दी।

विधायक सहित 10 के खिलाफ केस दर्ज

इंदौर की वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रुचिवर्धन मिश्रा ने बताया कि विजयवर्गीय और 10 अन्य लोगों के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 353 (लोक सेवक को भयभीत कर उसे उसके कर्तव्य के निर्वहन से रोकने के लिये उस पर हमला), 294 (गाली-गलौज), 323 (मारपीट), 506 (धमकाना), 147 (बलवा) और 148 (घातक हथियारों से लैस होकर बलवा) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गयी। उन्होंने बताया कि इस बात की शिनाख्त की जा रही है कि घटना में भाजपा विधायक के अलावा और कौन लोग शामिल थे।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here