BJP नेता यशवंत सिन्हा ने की अलगाववादियों से बातचीत की वकालत, बोले- क्‍या अटलजी एंटी नेशनल थे?

0

भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के वरिष्‍ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्‍हा ने बुधवार(12 अप्रैल) को श्रीनगर लोकसभा सीट पर हुए उप-चुनाव में कम मतदान को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि ‘हिंसा बहुत हुई है, तो कोई भी अपनी जान खतरे में डाल के वोट करने नहीं आता है।’

फाइल फोटो: साभार

साथ ही बीजेपी नेता ने अलगाववादियों से बातचीत की वकालत करते हुए कहा कि इन दिनों, अगर आप अलगाववादियों से बातचीत की बात भी करो तो आपको एंटी नेशनल कहा जाता है। क्‍या इसका मतलब ये है कि अटलजी भी एंटी नेशनल थे? उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भी अलगाववादियों से बातचीत के पक्षधर थे। इससे अटलजी आतंकवादी साबित नहीं हो जाते।

साथ ही यशवंत सिन्हा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री फारुख अब्दुल्ला के बयान का बचाव करते हुए कहा कि फारुख अब्दुल्ला हमेशा राष्ट्रवादी रहे हैं। उपचुनाव के लिए राज्य में चुनाव प्रचार जोरों पर था। ऐसे में मुझे नहीं पता कि उनका बयान किस संदर्भ में आया।

बता दें कि फारूक अब्‍दुल्‍ला ने कुछ दिन पहले एक बयान दिया था कि जो युवा(कश्मीर में) पत्थरबाजी कर रहे हैं, उनका पर्यटन से कोई लेना-देना नहीं है। वे यह सब देश के लिए कर रहे हैं। वे अपना जीवन कुर्बान कर रहे हैं, ताकि समस्या का कोई समाधान निकल सके। वे अपना जीवन पर्यटन के लिए कुर्बान नहीं कर रहे है।

पाक के साथ रिश्तों पर बीजेपी नेता ने कहा कि, ’70 साल में पाकिस्तान से रिश्ते सुधर नहीं सके हैं। विश्वास नहीं होने के कारण ऐसा हो रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक पाकिस्तान की तरफ से नकारात्मकता खत्म नहीं होगी तब तक बातचीत का कोई अर्थ नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here