VIDEO: ‘मैंने आपको जवाब दे दिया है’, CAA को लेकर सवाल पर BJP नेता किरीट सोमैया का अजीबो गरीब जवाब हुआ वायरल, पार्टी की जमकर हो रही है किरकिरी

0

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता किरीट सोमैया का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इस वीडियो में NDTV न्यूज चैनल का रिपोर्टर किरीट सोमैया से नागरिकता संशोधित कानून (CAA) के समर्थन में हुए कार्यक्रम में स्कूली बच्चों को ले जाने पर सवाल पूछ रहा है। लेकिन किरीट सोमैया ने हर बार एक ही जवाब दिया, जिसको लेकर अब पार्टी सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आ गई है।

सवाल

समाचार चैनल के रिपोर्टर ने भाजपा नेता किरीट सोमैया से अलग-अलग तरीकों से सीएए और एनआरसी पर 20 से ज्यादा सवाल पूछे। लेकिन किरीट सोमैया ने हर सवाल के जवाब में कहा, ‘मैंने आपको जवाब दे दिया है’। रिपोर्टर ने किरीट सोमैया से CAA से जुड़े कई सवाल पूछे, लेकिन वह सिर्फ अपने एक ही जवाब पर अड़े रहे और 27 बार इसी को दोहराया।

किरीट सोमैया का यह वीडियो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, उनके इस वीडियो पर यूजर्स भी जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कई लोगों ने भाजपा और किरीट सोमैया की आलोचना की। लोग लिख रहे हैं कि पत्रकार के सवाल का जवाब किरीट सोमैया रोबोट की तरह दे रहा है।

देखिए कुछ ऐसे ही ट्वीट

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को मुंबई के माटुंगा में दयानंद बालक बालिका विद्यालय के छात्रों को भाजपा की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में ले जाया गया था। भाजपा की ओर से CAA के समर्थन में आयोजित एक कार्यक्रम में दयानन्द बालक विद्यालय के छात्र ना केवल बड़े पैमाने में मौजूद रहे बल्कि उन्होंने मंच से प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा की तारीफ भी की। रिपोर्ट के मुताबिक, छात्रों ने बताया कि उन्हें इस सभा में नागरिकता कानून और देश के गद्दारों के बारे में बताया गया।

किरीट सोमैया ने महाराष्ट्र सरकार पर सोमवार को आरोप लगाया कि उसने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के संबंध में जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने को लेकर शहर के एक स्कूल को नोटिस जारी किया है। भाजपा नेता ने ट्विटर पर सरकार के इस कदम की निंदा भी की।

सोमैया ने कहा, ‘‘यह दुखद है कि ठाकरे सरकार ने सीएए पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए मुम्बई के दयानंद स्कूल के खिलाफ नोटिस जारी किया। सीएए को संसद ने पारित किया है। राष्ट्रपति ने इसे मंजूरी दी है। अब इसे क्रियान्वित करने का काम भी शुरू हो गया है। हम महाराष्ट्र की शिवसेना, राकांपा, कांग्रेस सरकार के इस कदम की निंदा करते हैं।’’

बता दें कि, इस कानून को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं क्योंकि उनका कहना है कि पहली बार धर्म के आधार पर नागरिकता मुहैया कराई जा रही है जो संविधान के मौलिक सिद्धांत का उल्लंघन है। वहीं, भाजपा का कहना है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के अल्पसंख्यकों के पास धार्मिक प्रताड़ना की स्थिति में भारत आने के अलावा कोई और रास्ता नहीं है। सीएए के तहत हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के जो लोग धार्मिक प्रताड़ना के कारण पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से 31 दिसंबर, 2014 तक भारत आ गए थे, उन्हें भारतीय नागरिकता दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here