दिल्ली हिंसा: BJP नेता कपिल मिश्रा बोले- “दी जा रही हैं हत्या की धमकियां, आतंकियों से सहानुभूति रखने वाले मुझसे नफरत कर रहे हैं”

0

उत्तर पूर्वी दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) को लेकर भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को सीएए समर्थकों और सीएए विरोधियों के बीच हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। तीसरे दिन भी मौजपुर-बाबरपुर इलाके में सुबह से ही पथराव हो रहा है और जानकरी के मुताबिक, इस इलाके में हालात अभी पूरी तरह तनावपूर्ण बने हुए हैं।

कपिल मिश्रा
फाइल फोटो: कपिल मिश्रा

इस बीच, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता कपिल मिश्रा ने मंगलवार (25 फरवरी) को सोशल मीडिया के जरिए कर आरोप लगाया कि उन्हें हत्या की धमकियां दी जा रही हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि, आतंकियों से सुहानुभूति रखने वाले मुझसे नफरत कर रहे हैं।

कपिल मिश्रा ने अपने ट्वीट में लिखा, “ओवैसी मुझे गाली दे रहा हैं, बरखा, राजदीप, अभिसार, कापड़ी, जावेद अख्तर सब कपिल मिश्रा को गाली दे रहे हैं। मुझे हत्या की धमकियां दी जा रही हैं। मेरा गुनाह हैं कि मैंने आतंक की आंखों में आंख डालकर सच बोलने का साहस किया। आतंकियों से सुहानुभूति रखने वाले मुझसे नफरत कर रहे हैं।”

बता दें कि, भाजपा नेता कपिल मिश्रा के खिलाफ रविवार और सोमवार को दिल्ली में हिसा भड़काने के आरोप में दो मामले दर्ज किए गए हैं। एक शिकायत आम आदमी पार्टी (आप) की कॉर्पोरेटर रेशमा नदीम और दूसरी हसीब उल हसन ने दर्ज कराई है। दर्ज शिकायतों में कहा गया है कि विरोध के दौरान कपिल मिश्रा ने अपने भड़काऊ भाषणों से लोगों को भड़काया, जिससे अराजकता फैल गई। बहरहाल, ख़बर लिखे जाने तक भाजपा नेता कपिल मिश्रा के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

वहीं, भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने दिल्ली हिंसा से पहले भड़काऊ बयान देने वाले और घटना के जिम्मेदार लोगों पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है। मीडिया से बातचीत में गौतम गंभीर ने बड़ा देते हुए कहा कि वो चाहें कपिल मिश्रा हों या कोई और हो, चाहे वो किसी भी पार्टी का हो अगर किसी ने भड़काऊ भाषण दिया है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

गौतम गंभीर ने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह इंसान कौन है, चाहे वह कपिल मिश्रा हो या कोई भी, किसी भी पार्टी से संबंधित हो, अगर उसने कोई भड़काऊ भाषण दिया है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। गंभीर ने आगे कहा कि मैं यह कभी बर्दास्त नहीं करूंगा कि लोगों को उकसाने के लिए भाषण दिए जाएं। यहा कोई अपना-पराया नहीं है, आप किसे उकसा रहे हैं? हमें स्थिति को संभालने की जरूरत है। अगर आप वर्दी वाले लोगों के साथ ऐसा बर्ताव करेंगे तो फिर आम आदमी खुद को कैसे सुरक्षित महसूस करेगा? जिन लोगों ने यह किया है उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

दिल्ली पुलिस को चेतावनी देते कपिल मिश्रा का वीडियो हुआ था वायरल

बता दें कि, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने रविवार को सड़क अवरुद्ध कर दी थी जिसके बाद जाफराबाद में सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प शुरू हो गई थी। दिल्ली के कई अन्य इलाकों में भी ऐसे ही धरने शुरू हो गए। मौजपुर में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने एक सभा बुलाई थी जिसमें मांग की गई थी कि पुलिस तीन दिन के भीतर सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों को हटाए। इसके तुरंत बाद दो समूहों के सदस्यों ने एक-दूसरे पर पथराव किया, जिसके चलते पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े।

इस बीच कपिल मिश्रा ने अपना एक वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा था, ”दिल्ली पुलिस को तीन दिन का अल्टीमेटम- जाफराबाद और चांद बाग की सड़कें खाली करवाइए इसके बाद हमें मत समझाइयेगा, हम आपकी भी नहीं सुनेंगे, सिर्फ तीन दिन।” कपिल मिश्रा ने जो वीडियो ट्वीट किया है इसमें वह दिल्ली पुलिस की मौजूदगी में एक सभा को संबोधित करते हुए कह रहे हैं, ”वे (प्रदर्शनकारी) दिल्ली में तनाव पैदा करना चाहते हैं, इसलिए उन्होंने सड़कें बंद कर दी हैं। इसीलिए उन्होंने यहां दंगे जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। हमारी तरफ से एक भी पथर नहीं चलाए गए।”

उन्होंने वहां मौजूद लोगों से आगे कहा, “डीसीपी साहब हमारे सामने खड़े हैं। मैं आप सबकी तरफ से यह बात कह सकता हूं। अमेरिकी राष्ट्रपति के जाने तक तो हम शांति से जा रहे हैं। लेकिन, उसके बाद हम आपकी (पुलिस) भी नहीं सुनेंगे। अगर रास्ते खाली नहीं हुए तो। ट्रंप के जाने तक आप जाफराबाद और चांद बाग खाली करवा लीजिए ऐसी आपसी विनती करते हैं। इसके बाद हमें रोड पर आना पड़ेगा।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here