कर्नाटक विधानसभा चुनाव: बीजेपी नेता ने कहा- पार्टी ने कई सीटों पर नहीं उतारे सही उम्मीदवार, इस बार नहीं चलेगा मोदी जी का जादू

0
2

कर्नाटक में 12 मई को विधानसभा चुनाव होने है, राज्य में चुनाव से पहले बीजेपी और कांग्रेस की बीच बयानों का सिलसिला शुरू हो गया है। राज्य में सियासी बाजी जीतने के लिए बीजेपी और कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है। कर्नाटक में सत्ता पाने के लिए इस बार बीजेपी इन चुनावों में हर संभव कोशिश कर रही है। लेकिन राज्य में चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के उम्मीदवार सीपी योगेश्वरा ने पार्टी के खिलाफ बयान देकर बीजेपी के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं।

कर्नाटक

जनसत्ता.कॉम में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, 55 वर्षीय बीजेपी नेता योगेश्वरा ने बिजनेस स्टैंडर्ड से बातचीत में कहा कि बीजेपी ने राज्य की सभी 224 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए हैं मगर कई सीटों पर सही उम्मीदवार नहीं उतारे हैं। इतना ही नहीं सीपी योगेश्वर ने कहा कि कर्नाटक चुनावों में पीएम नरेंद्र मोदी का जादू नहीं चलेगा। उन्होंने कहा, मोदीजी का जादू लोकसभा चुनाव में चला था लेकिन इस बार के विधान सभा चुनाव में उनका जादू नहीं चलने वाला है क्योंकि बीजेपी ने सही उम्मीदवार खड़े नहीं किए हैं।

साथ ही उन्होंने कहा कि, यह उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव जैसा नहीं है। दक्षिण भारत में तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक में क्षेत्रीय दलों का प्रभाव ज्यादा है। बीजेपी भी प्रभावशाली बनने की कोशिश कर रही है लेकिन बिना जमीनी नेता और कार्यकर्ता के। सी पी योगेश्वर रामनगर जिले की चन्नापटना विधान सभा सीट से बीजेपी के उम्मीदवार हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, वो इससे पहले कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के टिकट पर भी यहां से चुनाव जीत चुके हैं। साल 1999 में योगेश्वर ने यहां से निर्दलीय चुनाव जीता था। इसके बाद उन्होंने उप चुनाव में बीजेपी के टिकट पर जीत दर्ज की थी। वोक्कालिगा समुदाय से संबंध रखने वाले सीपी योगेश्वरा फिल्मों में भी काम कर चुके हैं, उन पर करप्शन के भी आरोप लग चुके हैं।

बता दें कि, इससे पहले राज्य में कांग्रेस से सत्ता छीनने और चुनावी तैयारियों के बीच बीजेपी को एक बड़ा झटका लगा था। समाचार एजेंसी भाषा की ख़बर के मुताबिक, मीडिया प्रमाणन और निगरानी समिति (एमसीएमसी) ने कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस के खिलाफ बनाए गए भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के तीन वीडियो विज्ञापनों के प्रसारण पर रोक लगा दी।

कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति (केपीसीसी) द्वारा दर्ज कराई गई एक शिकायत के बाद यह रोक लगाई गई है। समिति ने  मीडिया को इन विज्ञापनों को दिखाने से रोका था। उसने कहा था कि ये विज्ञापन चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करते हैं।

गौरतलब है कि, बीजेपी और कांग्रेस के बीच कर्नाटक चुनावों के मद्देनजर आरोप-प्रत्यारोप का दौर कुछ ज्यादा ही तेज हो गया है। कर्नाटक में विधानसभा की 224 सीटों पर एक चरण में 12 मई को मतदान होगा। वहीं, वोटों की गिनती 15 मई को की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here