‘महिला आरक्षण बिल’ पर PM मोदी के नाम सोनिया गांधी की चिट्ठी पर BJP का आया जवाब

0

दो दिन पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी को पत्र लिखकर कहा था कि उन्हें लोकसभा में अपनी पार्टी के बहुमत का लाभ उठाते हुए महिला आरक्षण विधेयक को पारित करवाना चाहिए। सोनिया के इस पत्र का जबाव देते हुए बीजेपी ने कहा है कि सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री को पत्र लिखने के बजाए, अपनी पार्टी गठबधंन के वरिष्ठ नेताओं से बात करनी चाहिए।

सोनिया गांधी
(File Photo)

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) का कहना है कि अगर सोनिया गांधी महिला बिल को लेकर इतनी ही फिक्रमंद हैं तो अपने सहयोगियों- समाजवादी पार्टी और आरजेडी जैसी पार्टियों को चिट्ठी लिखें, जो इस बिल का विरोध करती आ रही हैं। साथ ही बीजेपी ने ये भी कहा है कि मोदी सरकार महिला बिल को लेकर प्रतिबद्ध है। बीजेपी के मुताबिक, महिला बिल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सोनिया गांधी क्रेडिट लेना चाह रही हैं।

बता दें कि सरकार शीतकालीन सत्र में महिला आरक्षण बिल लाने की तैयारी कर रही है। यह विधेयक नौ मार्च 2010 में कांग्रेस नीत यूपीए सरकार के शासनकाल में राज्यसभा में पारित हो चुका है, लेकिन अभी इसको लोकसभा की मंजूरी मिलना बाकी है।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि उन्हें लोकसभा में अपनी पार्टी के बहुमत का लाभ उठाते हुए महिला आरक्षण विधेयक को पारित करवाना चाहिए। सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री को इस बात का भरोसा दिलाया है कि उनकी पार्टी महिला आरक्षण विधेयक का समर्थन करेगी।

उन्होंने इसे महिला सशक्तीकरण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बताया है। सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को भेजे पत्र में कहा है कि मैं आपको यह अनुरोध करने के लिए लिख रही हूं कि लोकसभा में आपके बहुमत का लाभ उठाते हुए अब महिला आरक्षण विधेयक को निचले सदन में भी पारित करवाइए।

उन्होंने यह भी स्मरण कराया है कि कांग्रेस और उनके दिवंगत नेता राजीव गांधी ने संविधान संशोधन विधेयकों के जरिये पंचायतों एवं स्थानीय निकायों में महिलाओं के लिए आरक्षण के लिए पहली बार प्रावधान कर महिला सशक्तीकरण की दिशा में कदम उठाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here