बिहारः शर्मनाक! बच्चों के लिए व्रत रख कर गंगा नदी में स्नान करने गई महिला से रेप, वीडियो बना किया वायरल

0

बिहार में कभी जंगलराज को खत्म करने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर अपराध पर रोक लगाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। हालांकि शासन का दावा है कि बिहार में अपराध कम हुए हैं। लेकिन आए दिन बेखौफ बदमाश दिनदहाड़े कभी भी कहीं भी किसी की भी हत्या और महिलाओं के साथ रेप की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। ताजा मामला बिहार की राजधानी पटना की है, जहां गंगा स्नान के दौरान एक महिला के साथ रेप का शर्मनाक मामला सामने आया है।

नोएडा
प्रतीकात्मक फोटो

पटना में जिउतिया व्रत की पूजा करने के लिए गंगा स्नान करने गई एक महिला के साथ पहले कथित रूप से रेप किया गया फिर उस घटना का वीडियो बनाकर उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया। महिला अपने बच्चों के लिए किए जाने वाले व्रत जिउतिया कर रही थी और उपवास पर थी। वीडियो में दिख रहा है कि वो आरोपी से गुहार लगा रही हैं, लेकिन वो नहीं माना। फिलहाल, पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

समाचार एजेंसी पुलिस के अनुसार, एक 40 वर्षीया महिला जिउतिया पर्व के मौके पर रविवार को जब गंगा में स्नान कर रही थी, तो उस समय उस नदी घाट पर कोई नहीं था। इस दौरान वहां दो लोग पहुंचे और महिला को पकड़कर एक ने उसके साथ दुष्कर्म किया और एक ने अपने मोबाइल में उसका वीडियो भी बना लिया।

इसके बाद उस वीडियो को सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया। वीडियो के वायरल होने के बाद क्षेत्र में लोगों को इस घटना की जानकारी मिली। बाढ़ के थाना प्रभारी अबरार अहमद खान ने बुधवार को बताया कि पीड़ित महिला के बयान पर मंगलवार को बाढ थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और पूरे मामले की छानबीन की जा रही है।

इधर, पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने बताया कि इस मामले में आरोपी पीड़िता के गांव के ही रहने वाले बस चालक शिवपूजन महतो को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि वीडियो बनाने वाले उसके दोस्त को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी की जा रही है।

बिहार में कानून-व्यवस्था की स्थिति जर्जर

आपको बता दें कि बिहार में पिछले बरस हर दिन जहां बलात्कार की तीन से ज्यादा घटनाएं हुईं, वहीं अपहरण के 18 से ज्यादा मामले हर रोज दर्ज किए गए। वहीं, इस वर्ष की पहली छमाही के आंकड़े भी कुछ ऐसे ही हैं। राज्य के पुलिस मुख्यालय से समाचार एजेंसी भाषा को मिली जानकारी के मुताबिक, वर्ष 2017 के दौरान प्रदेश में महिला अपराध से जुडे़ कुल 15,784 मामले प्रकाश में आए। इनमें बलात्कार के 1199, अपहरण के 6817, दहेज हत्या के 1081, दहेज प्रताड़ना के 4873 और छेड़खानी के 1814 मामले शामिल हैं।

वर्ष 2018 के जून तक बिहार में महिला अपराध के कुल 7683 मामले प्रकाश में आए। इनमें बलात्कार के 682, अपहरण के 2390, दहेज हत्या के 575, दहेज प्रताड़ना के 1535, छेड़खानी के 890 और महिला प्रताड़ना के 1611 मामले शामिल हैं। मुंबई स्थित टाटा इन्स्टीट्यूट ऑफ सोशल साईंस द्वारा गत 27 अप्रैल को सौंपी गई सामाजिक अंकेक्षण रिपोर्ट के आधार पर मुजफ्फरपुर जिला स्थित एक बालिका गृह में 34 लड़कियों के यौन शोषण का मामला सामने आया।

वैशाली जिले के एक अल्पावास गृह में महिलाओं के यौन उत्पीड़न का मामला प्रकाश में आया। गत 20 अगस्त को भोजपुर जिले के बिहिया थाना क्षेत्र में एक युवक की हत्या के संदेह में एक महिला को कथित तौर पर निर्वस्त्र कर घुमाया गया। बिहार के कैमूर, जहानाबाद, नालंदा, सहरसा, दरभंगा आदि जिलों में लड़कियों के साथ छेड़खानी के वीडियो वायरल होने, अश्लील फोटो एवं वीडियो अपलोड करने के मामले भी सामने आए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here