बिहार: वायरल हो रही तस्वीर पर शिक्षा मंत्री ने दी सफाई, बोले- ग्लास में शराब नहीं वो तो पानी था

0

बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा की एक तस्वीर इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रही है। तस्वीर में दिख रहा है कि नंदन वर्मा एक कमरे में बैठे हैं और उनके सामने टेबल पर एक जग और गिलास रखा हुआ है जिसका रंग ऐसा प्रतीत हो रहा जैसे गिलास में शराब रखी हुई है। इस तस्वीर में उनके साथ कुछ अन्य लोग भी दिख रहे हैं और टेबल पर ड्राई फ्रूट्स, अंगूर और सेब रखे हुए हैं।

Photo: Dainik Jagran

‘नशामुक्त बिहार’ के शिक्षा की यह तस्वीर के वायरल होने के साथ ही विरोधियों ने उनपर सवाल खड़े कर दिए हैं। साथ ही राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बिहार में शराबबंदी लागू करने के बावजूद मंत्री के कथित शराब पीने को लेकर चर्चा होने लगी है। हालांकि, यह तस्वीर कब की है और कहां खींची गई? इस बात को लेकर अभी तक कुछ स्पष्ट तो नहीं हो पाया है लेकिन शिक्षा मंत्री से लगातार सवाल पूछे जा रहे हैं।

इस बीच शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा ने दावा किया है सोशल मीडिया पर वायरल हो रही उनकी तस्वीरें फर्जी हैं। शराब पीने के आरोपों से घिरे शिक्षा मंत्री ने शनिवार को इस मामले में सफाई दी। उन्होंने इसे विरोधियों की साजिश बताया है। मंत्री ने कहा कि मेरी और सरकार की छवि धूमिल करने की कोशिश की जा रही है। इस मामले में वर्मा ने टेहटा ओपी में शिकायत दर्ज कराई है। वहीं, प्रमोद सिंह चंद्रवंशी ने भी सचिवालय थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है।

इस मामले पर सफाई देते हुए शिक्षा मंत्री ने कहा कि चूंकि गिलास का रंग ही ऐसा था। उन्होंने कहा कि औरंगाबाद में एक समर्थक के घर पर नाश्ता करने के दौरान किसी व्यक्ति ने यह तस्वीर खिंची थी, फिर उसमे शराब होने की बात कह कर सोशल मीडिया में वायरल कर दिया। शिक्षा मंत्री ने कहा कि जिस गिलास में उन्होंने पानी पिया था उसका भी वीडियो मंगाया गया है जिससे सभी लोगों को पता चल जाएगा की गिलास का रंग ही वैसा था या फिर उसमे शराब भरी थी?

Photo: Dainik Jagran

दैनिक जागरण के मुताबिक, मंत्री ने शनिवार को टेहटा में पत्रकारों से कहा कि 16 फरवरी को औरंगाबाद के नोखा में आयोजित कर्पूरी जयंती समारोह में भाग लेने जा रहा था। इसी क्रम में दाउदनगर निवासी संजय सिंह कुशवाहा के घर पर अपने समर्थकों के रुका। मेरे साथ पूर्व विधायक अजय पासवान, अतिपिछड़ा आयोग के पूर्व सदस्य प्रमोद चंद्रवंशी तथा जदयू नेता कुंडल वर्मा समेत कई समर्थक थे। संजय हमलोगों को नाश्ता करा रहे थे।

उन्होंने बताया कि इस दौरान रंगीन शीशे के ग्लास और जग में पीने के लिए पानी दिया गया था। पानी को शराब बताकर तस्वीर को वायरल कर मेरी छवि को धूमिल करने की कोशिश की गई। एक मार्च को मामले की जानकारी मिलने पर मैं हतप्रभ रह गया। घटना से आहत होकर मैंने पुलिस को फोटो वायरल करने वाले व्यक्ति का पता लगाकर कार्रवाई करने को कहा है। वहीं इस मामले में ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने ग्लास में शराब होने के आरोपों को खारिज करते हुए वायरल हो रही तस्वीर को फर्जी बताया है।

 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here