बिहार उपचुनाव: कांग्रेस ने भारी संख्या में EVM की खराबी का लगाया आरोप, जिलाधिकारी ने JKR से कहा- गड़बड़ी ‘सिर्फ’ 25 बूथों पर

0

बिहार के अररिया लोकसभा तथा जहानाबाद और भभुआ विधानसभा सीटों पर रविवार (11 मार्च) को उपचुनाव संपन्न हो गया। सुबह 7 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक वोट डाले गए। तीनों सीटों को मिलाकर करीब 55.93 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। शाम पांच बजे तक अररिया लोकसभा क्षेत्र में 57, जहानाबाद विधानसभा में 50.6 जबकि भभुआ विधानसभा क्षेत्र में 54.3 फीसदी मतदान हुआ।हालांकि, कई जगह वीवीपैट की गड़बड़ी की वजह से मतदान बाधित हुआ। प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष कौकब कादरी ने भभुआ में 137 ईवीएम की खराबी का आरोप लगाते हुए वहां पुनर्मतदान की मांग की है। कादरी ने आरोप लगाया है कि जानबूझकर ग्रामीण इलाकों में खराब मशीन भेजे गए, ताकि मतदान प्रभावित हो सके। कादरी ने आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हीं इलाकों के मशीन खराब हुए हैं, जहां मुस्लिम और दलित मतदाता हैं।

कांग्रेस नेता के अनुसार भभुआ विधानसभा क्षेत्र में 137 से अधिक ईवीएम के खराब होने की शिकायत मिली। उन्‍होंने इसे देखते हुए भभुआ में पुनर्मतदान की मांग की है। कादरी के अनुसार सुबह में मतदाता उत्‍साह में थे, लेकिन ईवीएम में खराबी के कारण मतदान प्रभावित हो गया है। ईवीएम खासकर दलित-मुस्लिम इलाकों में खराब मिले हैं। कादरी के अनुसार उनकी इस बाबत जिलाधिकारी से बातचीत हुई है।

कांग्रेस नेता के दावों को जिलाधिकारी ने किया खारिज

हालांकि, ‘जनता का रिपोर्टर’ से एक्सक्लूसिव बातचीत में कैमूर के जिलाधिकारी राजेश्‍वर प्रसाद सिंह ने बड़े पैमाने पर ईवीएम की खराबी से इनकार किया है। जिलाधिकारी के मुताबिक भभुआ विधानसभा में सिर्फ 25 बूथों पर वीवीपैट मशीनों की गड़बड़ी से मतदान प्रभावित हुआ, लेकिन कहीं भी दो घंटे से अधिक मतदान बाधित रहने की सूचना नहीं मिली है। सिंह ने बताया कि 25 बूथों पर ईवीएम नहीं बल्कि वीवीपैट मशीनों के खराब होने की शिकायत मिली। जिन्‍हें फौरन ठीक कर दिया गया। जहां तक 137 ईवीएम के खराब होने की बात है, ऐसी बात नहीं है।

वहीं, समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक बिहार के मुख्य चुनाव आयुक्त अजय नायक ने बताया कि भभुआ विधानसभा क्षेत्र में तीन मतदान केंद्रों पर ईवीएम की गड़बड़ी की शिकायत सामने आई थी, जिसके कारण वोटिंग की प्रक्रिया दो घंटे की देरी से शुरू की गई। दरअसल मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तमाम तैयारियों के बाद सुबह 7 बजे वोटिंग शुरू होते ही कई बूथों पर ईवीएम और वीवीपैट मशीन धोखा दे गईं, जिससे करीब 50 बूथों पर आधे घंटे से लेकर तीन घंटे तक मतदान प्रभावित हुआ।

कैमूर में 23 बूथों पर कल होगा पुनर्मतदान?

हिंदुस्तान में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य निर्वाचन आयोग ने इन केंद्रों पर 13 मार्च को पुनर्मतदान कराने की घोषणा की है। रिपोर्ट के मुताबिक मुख्य चुनाव आयुक्त अजय नायक ने कहा कि कैमूर में 23 बूथों पर 13 मार्च को मतदान होगा। सोमवार को तीन सीटों पर नियुक्त पर्यवेक्षकों की समीक्षा में अन्य शिकायतों पर निर्णय होगा। हिंदुस्तान के मुताबिक कैमूर के जिलाधिकारी ने 25 बूथों पर पुनर्मतदान की बात कही है। हालांकि, ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में कैमूर के जिलाधिकारी ने पुनर्मतदान की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि अभी तक मुझे पुनर्मतदान कराए जाने की खबर नहीं मिली है।

इन सीटों पर हुआ उपचुनाव

अररिया लोकसभा सीट: आरजेडी के मोहम्मद तस्लीमुद्दीन यहां से थे सांसद। उनके निधन के बाद यह सीट खाली हुई है। उनके बेटे सरफराज आलम ही इस सीट पर आरजेडी के प्रत्याशी हैं। सरफराज पहले सत्तारूढ़ जेडीयू के विधायक रह चुके हैं। यहां उनके पुत्र सरफराज से एक बार जीत चुके भाजपा के प्रदीप सिंह का मुकाबला है।

भभुआ विधानसभा सीट: भाजपा के आनंद भूषण पांडेय यहां से जीते थे। उनके निधन के बाद यह सीट खाली हुई है। बिहार में सत्तासीन पार्टी भाजपा द्वारा अपने दिवंगत विधायक आनंद भूषण पांडेय की पत्नी रिंकी रानी पांडेय को और कांग्रेस द्वारा शंभू पटेल को अपना उम्मीदवार बनाया है। दोनों के बीच कांटे का मुकाबला है।

जहानाबाद विधानसभा सीट: राजद के टिकट पर जीते मुंद्रिका सिंह यादव के निधन के बाद यह सीट रिक्‍त हुई थी। यहां जदयू के अभिराम शर्मा कें मुकाबले राजद के दिवंगत विधायक मुंद्रिका सिंह यादव के पुत्र कुमार कृष्ण मोहन उर्फ सुदय यादव को उम्मीदवार बनाया गया है।

 

 

"
"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here