पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड मामले में तेज प्रताप यादव को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने बंद किया केस

0

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री तेजप्रताप यादव को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। सिवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्‍याकांड मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार (22 मार्च) को उन्‍हें क्‍लीन चिट दे दी है। इसके बाद शीर्ष अदालत ने तेजप्रताप के खिलाफ मामले का निष्‍पादन कर दिया।

@TejYadav14

समाचार एजेंसी IANS के मुताबिक तेज प्रताप यादव को बड़ी राहत पहुंचाते हुए सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि एजेंसी को पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले में तेज प्रताप के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला है। सीबीआई ने मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमृर्ति डी.वाई चंद्रचूड़ की पीठ को बताया कि दो आरोपियों मोहम्मद कैफ और जावेद के खिलाफ जांच चल रही है।

सीबीआई ने यह बयान पत्रकार की विधवा आशा रंजन की याचिका पर दिया है। याचिका में बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप के खिलाफ जांच की मांग की गई थी। अदालत ने याचिका को खारिज करते हुए उन्हें बाद में किसी भी समय तेज प्रताप के खिलाफ कुछ भी मिलने पर पटना हाई कोर्ट में याचिका दायर करने की अनुमति दी है।

सुप्रीम कोर्ट ने साफ कर दिया है कि अब तेज प्रताप यादव का आरोपी मोहम्मद कैफ और जावेद के साथ फोटो पर किसी तरह की कार्यवाई नहीं होगी। इसी के साथ सीबीआई की क्लीन चीट के बाद सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की सुनवाई बंद कर दी। बता दें कि ‘हिन्दुस्तान’ समाचार पत्र के ब्यूरो चीफ राजदेव रंजन की 13 मई 2016 को कार्यालय से लौटते समय सिवान जिले में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

गत वर्ष 22 अगस्त को पत्रकार हत्याकांड मामले में दाखिल आरोप पत्र में कुल छह लोगों को मुख्य अभियुक्त बनाया है। इनमें मोहम्मद शहाबुद्दीन के अलावा लड्डन मियां उर्फ अजहरुद्दीन बेग, रिशु कुमार जायसवाल, रोहित कुमार सोनी, विजय कुमार गुप्ता, राजेश कुमार और सोनू कुमार गुप्ता के खिलाफ आईपीसी की धारा 120बी और 302 के साथ ही आर्म्स एक्ट तहत विशेष सीबीआई की अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया गया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here