भोपाल हॉस्टल रेपकांड: एक और युवती ने लगाया रेप का आरोप, कहा- ‘जबरन पॉर्न फिल्में दिखाकर 6 महीने तक किया रेप’

0

बिहार के मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश के देवरिया की तरह सरकारी अनुदान प्राप्त मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के एक छात्रावास में मूक-बधिर युवतियों से दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया है। छात्रावास संचालक पर यहां रह चुकी एक दिव्यांग युवती से दुष्कर्म व अश्लील हरकत करने का आरोप है। मूक बधिर आदिवासी युवती की शिकायत पर पुलिस ने छात्रावास संचालक को बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है।

प्रतीकात्मक तस्वीर: HT

इस बीच छात्रावास के संचालक पर एक और छात्रा ने बलात्कार का आरोप लगाया है। अब तक इस मामले में 4 लड़कियां शिकायत दर्ज करा चुकी हैं। चौथी लड़की ने शनिवार (11 अगस्त) को आरोप लगाया कि मुख्य आरोपी और हॉस्टल संचालक अश्विनी शर्मा ने उसके साथ 6 महीने तक रेप किया। शर्मा पर मूक-बधिर आदिवासी लड़की समेत कई छात्रों से रेप करने का आरोप है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, इंदौर पुलिस के पास शनिवार को पहुंची लड़की ने बताया कि न्यूज रिपोर्ट्स देखने के बाद उसने पुलिस में जाने का फैसला किया। उसने आरोप लगाया कि शर्मा ने उसे बंधक बनाकर रखा था। उसे जबरन पॉर्न दिखाया जाता था और अप्राकृतिक यौन संबंध बनाए जाते थे। लड़की ने बताया कि मना करने पर उसके साथ क्रूरता के मारपीट की जाती थी। पीड़िता के बयान कोर्ट के सामने दर्ज कर लिए गए हैं।

मूक बधिर युवती ने भोपाल के हास्टल के डायरेक्टर पर मामला दर्ज कराते हुए पुलिस को आपबीती सुनाई है कि वह उसे कथित तौर पर अश्लील सामग्री फिल्में हवस का शिकार बनाता था। इंदौर के हीरा नगर पुलिस थाने के प्रभारी महेंद्र सिंह भदौरिया ने बताया कि पड़ोसी धार जिले की रहने वाली 23 वर्षीय मूक-बधिर लड़की की शिकायत पर भोपाल के छात्रावास संचालक अश्विनी शर्मा के खिलाफ शनिवार रात मामला दर्ज किया गया है।

उन्होंने बताया कि यह मामला भारतीय दंड विधान की धारा 376 (बलात्कार), धारा 377 (अप्राकृतिक दुष्कृत्य) और अन्य सम्बद्ध धाराओं के साथ अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत दर्ज किया गया है। थाना प्रभारी के मुताबिक, पीड़ित लड़की ने पुलिस को बताया कि शर्मा उसे कथित तौर पर अश्लील फिल्में दिखाकर उसके साथ बलात्कार और अप्राकृतिक दुष्कर्म करता था।

यह घटना दिसंबर 2017 से फरवरी 2018 के बीच की है, जब मूक-बधिर युवती पढ़ाई के दौरान भोपाल में शर्मा के छात्रावास में रह रही थी। उन्होंने बताया कि मामले की आगे की जांच के लिए भोपाल पुलिस को भेज दिया गया है। शर्मा को एक अन्य प्रकरण में मूक-बधिर आदिवासी युवती से दुष्कर्म के आरोप में नौ अगस्त को भोपाल में गिरफ्तार किया गया था।

सूबे की राजधानी के छात्रावास संचालक पर अब तक चार मूक-बधिर लड़कियां यौन प्रताड़ना के आरोपों में अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज करा चुकी हैं। इनमें दो सगी बहनें शामिल हैं। इंदौर के हीरानगर पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई शिकायत में 23 साल की छात्रा ने आरोप लगाया, मुझे बंधक बनाकर रखा गया था और लगातार 6 महीने तक रेप किया गया। युवती के मुताबिक उसके साथ कई बार अश्लील फिल्में दिखाकर रेप किया गया।

आदिवासी छात्रा से रेप का आरोप

भोपाल पुलिस उपमहानिरीक्षक धमेन्द्र चौधरी ने शनिवार को बताया कि धार जिले की रहने वाली एक युवती की शिकायत पर पुलिस ने भोपाल के छात्रावास संचालक अश्विनी शर्मा को दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि पुलिस को की गई शिकायत में युवती का आरोप है कि वह भोपाल के एक छात्रावास में पिछले तीन साल से रह रही है। इस दौरान छात्रावास के संचालक अश्विनी शर्मा ने उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया।

चौधरी ने कहा कि युवती धार जिले की रहने वाली है और वहां अपने घर जाने के बाद उसने पुलिस में इस मामले की शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस ने आरोपी छात्रावास संचालक अश्विनी शर्मा को रेप और एसटी-एससी अधिनियम की धाराओं में गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस छात्रावास में रहने वाली अन्य छात्राओं से भी विस्तृत पूछताछ करेगी।

पुलिस के अनुसार, यह मामला गुरुवार (9 अगस्त) को तब उजागर हुआ जब धार जिले की एक मूक-बधिर युवती ने परिजनों को आपबीती बताई। जिसके बाद परिजनों ने धार व इंदौर पुलिस को शिकायत की। इस पर पुलिस ने शून्य पर मामला दर्ज कर भोपाल की अवधपुरी थाने के पुलिस को प्रकरण भेजा।

बताया गया है कि अवधपुरी में अश्विनी शर्मा मूक बधिर बालिकाओं के लिए प्रशिक्षण केंद्र चलाता है, जिसे सरकार से अनुदान भी मिलता है। उसका कृतार्थ नाम से छात्रावास भी है। इस छात्रावास में प्रशिक्षण लेने आने वाली युवतियां के रहने का इंतजाम है। मूक बधिर युवती द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, वह भोपाल सिलाई-कढ़ाई का प्रशिक्षण लेने आई थी।

यहां वह साल भर रही, जहां छात्रावास संचालक ने कई बार उसके साथ रेप किया। इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ की बैठक के बाद कहा कि ऐसे छात्रावासों की नियमित मॉनिटरिंग के लिए निर्देश दिए गए हैं। लड़कियों के होस्टलों के हर महीने निरीक्षण होगा।

Pizza Hut

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here