कृषि विधेयकों के विरोध में आज ‘भारत बंद’, दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात, वाहनों की हो रही चेकिंग

0
5
दिल्ली
फोटो: IANS

संसद के दोनों सदनों से पारित हुए तीनों कृषि विधेयकों के विरोध में आज किसान संगठनों ने देशव्यापी आंदोलन का आह्वान किया है। इसके मद्देनजर पूरे राजधानी दिल्ली की पुलिस अलर्ट पर है। दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को दो दर्जन से अधिक किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए ‘भारत बंद’ के मद्देनजर सीमावर्ती इलाकों में सुरक्षा कड़ी कर दी है। उत्तर प्रदेश और हरियाणा की सीमा से लगे क्षेत्रों में बैरिकेड्स लगा दिए गए हैं और दिल्ली में प्रवेश करने वाले वाहनों की जांच की जा रही है। दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बलों को एहतियात के तौर पर सिंघू सीमा और करनाल रोड (हरियाणा) पर तैनात किया गया है।

दिल्ली
फोटो: IANS

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “हमारी टीम सीमावर्ती क्षेत्रों में सतर्क व सक्रिय हैं और कर्मचारियों को किसानों के विरोध के मद्देनजर रणनीतिक स्थानों पर तैनात किया गया है।” किसानों के विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए गाजीपुर, न्यू अशोक नगर, सीमापुरी, पूर्वी दिल्ली में आनंद विहार और दक्षिण पूर्वी दिल्ली में कालिंदी कुंज में भी तैनाती की गई है।

वहीं सीमावर्ती क्षेत्रों के अलावा दिल्ली में संभावित स्नैप विरोध-प्रदर्शन के मद्देनजर भी दिल्ली पुलिस सतर्क है। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) के आदेश का हवाला देते हुए पहले कहा था कि 30 सितंबर तक राष्ट्रीय राजधानी में कोई प्रदर्शन नहीं होने दिया जाएगा।

करीब 18 राजनीतिक दलों के विरोध के बीच संसद द्वारा पारित फार्म बिल के विरोध में दो दर्जन से अधिक किसान संगठनों ने शुक्रवार को ‘भारत बंद’ के समर्थन की घोषणा की है। पंजाब और हरियाणा के 31 किसान संगठन पहले से ही विरोध कर रहे हैं।

इस सप्ताह की शुरुआत में संसद सत्र के दौरान सरकार द्वारा पारित किए गए तीन फार्म बिलों के विरोध में देशभर में अखिल भारतीय किसान संघ (एआईएफयू), भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू), अखिल भारतीय किसान महासंघ (एआईकेएम) और अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (एआईकेएससीसी) और अन्य राजनीतिक रूप से समर्थित संगठनों ने किसानों से रैली निकालने व विभिन्न हिस्सों में धरना देने का आग्रह किया है।

भारतीय किसान यूनियन समेत अन्य किसान संगठन बिल के खिलाफ चक्का जाम कर रहे हैं। इधर, भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) का कहना है कि वो 2 अक्टूबर को दिल्ली में लाल बहादुर शास्त्री की समाधि की ओर कूच करेंगे और आगे की रणनीति तय करेंगे। भारत बंद ऐलान के बाद जगह जगह सुरक्षा बढ़ा दी गई है। वहीं दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर पर भी दिल्ली पुलिस और सीआईएसएफ के जवान तैनात कर दिए गए हैं।

भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ऋषिपाल ने आईएएनएस को बताया, हमारे क्षेत्रों में लगभग सब कुछ बंद है। मथुरा और आगरा की ओर भी किसान भी सड़कों पर आ गए हैं। जब तक कानून वापस नहीं होगा तब तक हम आंदोलन करते रहेंगे। 2 अक्टूबर को दिल्ली में लाल बहादुर शास्त्री जी की समाधि पर पूरे देश का किसान पहुंच रहा है।

यूपी-बिहार से लेकर पंजाब-हरियाणा और अन्य राज्यों में शुक्रवार को सड़क पर किसान उतर रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत कह चुके हैं कि, चक्का जाम में पंजाब, हरियाणा, यूपी, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक समेत पूरे देश के किसान संगठन एकजुट होंगे। पंजाब में कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों का तीन दिवसीय रेल रोको आंदोलन भी जारी है। (इंपुट: आईएएनएस के साथ)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here