‘ट्यूब्लाइट’ के औसत प्रदर्शन के बाद भी क्या सलमान खान का ब्रांड मजबूत बना रहेगा?

0

23 जून 2017 को सलमान खान की नई फिल्म ‘ट्यूब्लाइट’ ने दुनिया और देश के 5500 सिनेमा स्क्रीन पर कब्जा जमाकर लोगों को लुभाने के लिए अपनी सभी कोशिशें की लेकिन फिल्म भले ही 100 करोड़ क्लब में शामिल हो जाए लेकिन अपने औसत प्रर्दशन के कारण दर्शकों का दिल लुभाने में असफल रही।

सलमान खान

सलमान अपनी पूर्व फिल्मों की भांती जिसमें भरपूर सल्लू मसाला भरा होता था इस बार दर्शकों के लिए परोसने में नाकामयाब रहें। इसके बाद सवाल उठता है कि क्या यह सल्लु भाई के ब्रांड की गिरावट होगी या फिर अभी कुछ संभावनाएं बची हैं?

बाॅलीवुड खबरों को कवर करने वालें पत्रकारों का मानना है कि केवल एक फिल्म के खराब प्रर्दशन के कारण इस निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता है कि वह आगे भी दर्शक सलमान की फिल्मों को नकार देगें, लेकिन इस फिल्म का औसत प्रर्दशन सलमान की आंखें खोल देने वाला साबित होगा जो उन्हें भविष्य में सही पटकथाओं को चुनने में मदद करेगा।

फिलहाल ‘ट्यूब्लाइट’ के उम्मीदों के मुताबिक न चल पाने के बाद कुछ लोग सोचते हैं कि सलमान को अपनी मर्दाना शैली को पीछे नहीं छोड़ना चाहिए क्योंकि उसके प्रशंसक उन्हें इस रूप में देखने के लिए अपनी जान छिड़कते हैं।

बॉलीवुड हंगामा के फरीदून शहरयार का कहना है कि बॉक्स ऑफिस पर ‘ट्यूब्लाइट’ के अपेक्षाकृत खराब प्रदर्शन की वजह से सलमान के ब्रांड पर असर पड़ सकता है।

शहरयार कहते हैं, हमें नहीं भूलना चाहिए कि ‘ट्यूब्लाइट’ अभी भी 100 करोड़ की फिल्म है, हालांकि ये कोई छोटी बात नहीं है। लेकिन सलमान ने जो ऊंचाई अपनी पूर्व की फिल्मों से बनाई है ‘ट्यूब्लाइट’ उन्हें उस स्तर पर नहीं लेकर जाती हैं।

पत्रकार रोहित खिलनानी भी इस बात से सहमत हैं। वे कहते हैं, एक फिल्म का खराब प्रदर्शन सलमान खान जैसे बडे स्टार के भाग्य का फैसला तो नहीं करेगा लेकिन मुझे नहीं लगता कि ‘ट्यूब्लाइट’ का खराब प्रर्दशन सलमान की भविष्य की फिल्मों पर असर जरूर डालेगा।

वह कहते है कि सलमान की सभी पूर्व की फिल्में जैसे कि रेडी, बॉडीगार्ड, एक था टायगर, दबंग 2, किक, बजरंगी भाईजान और सुल्तान बॉक्स ऑफिस पर बेहद सफल रही थी इसलिए यह बात इस संदर्भ में ठीक है कि ‘ट्यूब्लाइट’ ने उनके भविष्य की संभावनाओं पर प्रश्न उठाने शुरू कर दिए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here