सलमान खान के बीइंग ह्यूमन के CEO मनीष मंधाना पर मॉडल ने लगाया मारपीट का आरोप, पीड़िता ने दर्ज करवाई FIR

0

बॉलीवुड के ‘दबंग’ यानी सलमान खान के पार्टनर और बीइंग ह्यूमन के सीईओ मनीष मंधाना के खिलाफ एक मॉडल ने मारपीट का केस दर्ज करवाया है। केस दर्ज करवाने वाली मॉडल एंड्रिया डिसूजा का आरोप है कि मनीष ने उनके साथ बुरी तरह से मारपीट की, जिससे उनकी सुनने की शक्ति खत्म हो गई। मॉडल की शिकायत पर मुंबई के गामदेवी थाने में विभिन धाराओं में केस दर्ज किया गया है। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

एंड्रिया डिसूजा

स्पॉटबॉय डॉट कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मामले के बारे में बात करते हुए एंड्रिया डिसूजा ने बताया कि वह बीइंग ह्यूमन स्टोर के लॉन्च के दौरान 2015 में पहली बार दुबई में मनीष मंधाना से मिली थीं। इसके बाद से ही उनकी दोस्ती हो गई और दोनों ने बात करना शुरू कर दिया था। पहले में दुबई से मुंबई काम के सिलसिले में आती जाती थी लेकिन साल 2015 में फुलटाइम यहीं शिफ्ट हो गई।

मॉडल ने बताया, इसके बाद हम अक्सर मिलने लगे और हमारी दोस्ती हो गई। मुझे ये मालूम था की मनीष शादीशुदा है फिर भी उसने मुझे झूठ बोला की वो अपनी पत्नी से तलाक़ ले रहा है और उसकी पत्नी और बच्चे उससे अलग रहते हैं। लेकिन, इस बीच मुझे पता चला कि मनीष ने मुझे झूठ बोला है। उसके कई और लड़कियों से भी संबंध है। जब मैंने उससे इस बारे में पूछा तो उसने मुझसे बातचीत बंद कर दी।

मॉडल एंड्रिया ने बताया कि नवंबर 2017 में उसे किसी ने मनीष के कई सारे चैट्स और आपत्तिजनक तस्वीरें भेजी थी, जो एक अन्य महिला के साथ थी। जिसके बारे में जब मैंने उससे पूछताछ की तो उसने मेरी बुरी तरह पिटाई कर दी। लेकिन बाद में उसने माफी मांग ली। इसलिए मैंने कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई। लेकिन धीरे-धीरे ये सब बढ़ता गया। छह महीने बाद ही मेरे चचेरे भाई मुझे जसलोक अस्पताल ले गए (उपचार के लिए) वहां, मुझे बताया गया कि मेरे दाहिने कान की नस क्षतिग्रस्त हो गई थी। मैंने उसकी पत्नी को मैसेज किया लेकिन मुझे नहीं लगता कि वह मेरी बात सुनने में दिलचस्पी रखती थी।

डिसूजा ने कहा कि उसने मेडिकल रिपोर्ट के साथ-साथ पुलिस को अपनी चोटों की तस्वीरें भी सौंपी हैं। जब सवाल किया गया कि उसने पुलिस शिकायत दर्ज करने के लिए 15 महीने तक इंतजार क्यों किया। डिसूजा ने मिड-डे को बताया, “मैं अपनी चोटों से उबर रही थी। इसके अलावा, मेरे दोस्तों ने मनीष के खिलाफ कार्रवाई करने से मुझे मना कर दिया क्योंकि वह एक शक्तिशाली व्यक्ति है। लेकिन मैंने साहस और निर्णय लिया कि मुझे उसके अपमानजनक व्यवहार के बारे में सभी को बताना है। मैं मुआवजे की तलाश में नहीं हूं, मुझे न्याय चाहिए। मैं अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए सहायक पुलिस आयुक्त चंद्रकांत थले और गामदेवी पुलिस की टीम का शुक्रगुजार हूं।

गामदेवी पुलिस स्टेशन के पुलिस इंस्पेक्टर राकेश जाधव ने डीसूजा की शिकायत की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि, “हमने पीड़ित का बयान दर्ज किया है और एक प्राथमिकी दर्ज की गई है, आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here