“कितने बस्सी हटाओगे, पीएमओ से फिर कोई बस्सी निकलेगा” कार्यकाल के आखरी दिन ट्विटर यूज़र्स ने कहा #बस्सी_से_आज़ादी

1

दिल्ली पुलिस के बहुचर्चित कमिश्नर बी एस बस्सी आज रिटायर हो जाएंगे और इस के साथ ही आम आदमी पार्टी के समर्थकों ने उन्हें ट्विटर पर शुभकामनाओं की भेंट देना शुरू कर दिया है ।

ये पढ़ कर आप का हैरान होना लाज़मी है क्यूंकि आम आदमी पार्टी के नताओं और दिल्ली में उनकी चुनी हुई सरकार के साथ बस्सी का छत्तीस का आंकड़ा रहा है ।

लेकिन चौंकिए मत, ये शुभकामनाएं बस्सी के रिटायर होने के ग़म में नहीं भेजी जा रही हैं । कटाक्ष से भरे इन शुभकामनाओं के ज़रिये ट्विटर पर बस्सी की एक मर्तबा फिर से खिल्ली उड़ाई जा रही है ।

चूँकि जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के मुद्दे पर दिल्ली पुलिस और बस्सी की भूमिका पर काफी सवाल उठे और किस तरह भुकमरी से आज़ादी के नारों को भारत से अज़्ज़ादी का मामला बनाकर कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य पर देशद्रोह का केस दर्ज किया गया, ट्विटर यूज़र्स ने भी इस मौके पर #बस्सी_से_आज़ादी ट्रेंड कराया है ।

Also Read:  एंबुलेंस के लिए इस ट्रैफिक पुलिस इंस्पेक्टर ने रोक दिया राष्ट्रपति का काफिला, हो रही वाहवाही

इस हैशटैग पर जो मैसेज पोस्ट किये हां रहे हैं वह बेहद रोचक हैं|

बस्सी पर इलज़ाम है कि केंद्र की भजपा सरकार से अपनी वफादारी निभाने की जूनून में उन्होंने खाकी वर्दी का ऐसा मज़ाक उड़ाया जिसकी मिसाल नहीं मिलती ।

भाजपा के प्रति उनके कथित इश्क़ ने उन्हें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल से जुड़े हर शख्स से नफरत करने पर मजबूर कर दिया ।

पिछले एक साल में बस्सी पर अक्सर ये इलज़ाम लगे कि उन्होंने आम आदमी पार्टी के निर्वाचित सदस्यों को गिरफ्तार करने में चुस्ती तो दिखाई लेकिन भाजपा से जुड़े लोगों के जुर्मों को उन्होंने सिरे से नज़र अंदाज़ कर दिया ।

कई मौक़ों पर बस्सी और उनकी पुलिस को उनकी इस हरकत पर अदालत से फटकार भी पड़ी, लेकिन इसका उनकी सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा । शायद यही वजह थी कि उनके विरोधियों ने उनपर सत्ता लोभ का इलज़ाम लगाया ।

पटियाला हाउस कोर्ट में पत्रकारों और छात्रों पर वकीलों के लिबास में गुंडों द्वारा की गई गुंडागर्दी और भाजपा एमएलए ओ पी शर्मा द्वारा क़ानून का खुलेआम मज़ाक उड़ाए जाने पर भी बस्सी साहब की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा ।

Also Read:  नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद, राहुल गांधी ने सरकार से पूछा - 'क्या अब आप सुप्रीम कोर्ट को 'राष्ट्रविरोधी' कहेंगे?'

बावजूद इसके कि इन गुंडों की गुंडागर्दी कैमरे पर क़ैद थीं, बस्सी ने नामालूम लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की बात कही ।

सब से शर्मनाक बात तो उस वक़्त हुई जब शर्मा के टीवी कैमरे पर जान से मारने की धमकी के बावजूद बस्सी और उनकी पुलिस को इसमें कुछ भी ग़लत नज़र नहीं आया । मीडिया में निंदा के बाद जब दिल्ली पुलिस ने शर्मा को पूछताछ केलिए बुलाया तो सब से पहले उनकी खातिर में विशेष भोजन का इंतज़ाम किया गया, उन्हें गिरफ्तार करने का नाटक सामने आया और फिर उन्हें ज़मानत पर छोड़ भी दिया गया ।

बस्सी के पुलिस कमिश्नर के कार्यकाल और उससे जुड़े विवादों पर एक किताब लिखी जा सकती है ।

आईये आप भी पढ़िए #बस्सी_से_आज़ादी पर ट्विटर यूज़र्स के दिलचस्प मेस्सजेज़ ।

Also Read:  उर्दू के ताज मलिकजादा मंजूर नहीं रहे

1 COMMENT

  1. Om Thanvi ‏@omthanvi 6h6 hours ago

    लुधियाना में केजरीवाल की गाड़ी पर लाठियों-पत्थरों से हमला हुआ है। मानो पंजाब में अकाली-भाजपा गठजोड़ की हताशा का पहला सार्वजनिक स्वीकार हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here