तिरंगा टीवी में घमासान: चैनल के 200 पत्रकारों की छंटनी को लेकर कपिल सिब्बल पर भड़कीं पत्रकार बरखा दत्त, भगोड़े विजय माल्या से की कांग्रेस नेता की तुलना

0

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के टीवी चैनल ‘तिरंगा टीवी’ को लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया है। सोमवार को वरिष्ठ पत्रकार और तिरंगा टीवी की सलाहकार संपादक बरखा दत्त ने चैनल के मालिक कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी प्रमिला सिब्बल पर चैनल के करीब 200 कर्मचारियों की सैलरी रोकने और उन्हें बिना उचित मुआवजा दिए नौकरी से निकालने का गंभीर आरोप लगाया।

बरखा दत्त

चैनल की सीनियर एग्जिक्यूटिव दत्त ने ट्विटर पर एक के बाद एक ट्वीट कर सिब्बल और उनकी पत्नी पर उनकी कंपनी एचटीएन तिरंगा टीवी चैनल के 200 कर्मचारियों को वेतन नहीं देने का आरोप लगाया। बरखा दत्त ने कमर्चारियों का पक्ष लेने के लिए उन्हें मानहानि की धमकी देने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि सिब्बल दंपत्ति ने चैनल की महिला कर्मचारियों के साथ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल भी किया।

बरखा दत्त ने अपने ट्वीट में लिखा, “कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी के चैनल ‘तिरंगा टीवी’ में भयावह स्थिति है। 200 से ज्यादा कर्मचारियों को छह महीने की सैलरी दिए बिना ही निकाल दिया गया है। वो व्यक्ति जो खुद को समाज में बहुत अच्छा दिखाने की कोशिश करता है, उसने पत्रकारों के साथ ऐसा घिनौना व्यवहार किया है।’’

बरखा ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा कि इस टीवी चैनल से जुड़े कई लोगों ने कपिल सिब्बल और दो साल तक चले इस न्यूज चैनल में आने के लिए अपनी नौकरी छोड़ दी, लेकिन चैनल बंद होने को लेकर पति-पत्नी ने कर्मचारियों से बात तक नहीं की, जबकि सभी लाइव प्राग्रामिंग को 48 घंटे के लिए रद्द कर दिया गया।

उन्होंने अपने सिलसिलेवार ट्वीट में आगे लिखा है कि सिब्बल की पत्नी जो एक मीट फैक्ट्री चलाती थीं, उन्होंने दफ्तर में तेज आवाज में कहा कि मैंने मजदूरों को एक भी पैसा दिए बिना अपनी फैक्ट्री बंद कर दी। पत्रकार छह महीने की सैलरी मांगने वाले कौन होते हैं। उनके मजूदरों को भी सही भुगतान मिलना चाहिए था, लेकिन पत्रकारों के लिए सिब्बल की पत्नी की अपमानजनक भाषा काफी घिनौनी है।

एक अन्य ट्वीट में बरखा ने आगे लिखा है, ‘सबसे ज्यादा शर्मनाक बात ये है कि कपिल सिब्बल हर दिन करोड़ों रुपये कमाते हैं लेकिन अपने 200 कर्मचारियों को नियमों के मुताबिक छह महीने या कम से कम तीन महीने की सैलरी नहीं दे रहे, वे 200 से ज्यादा लोगों की जिंदगी तबाह कर रहे हैं।’ बरखा दत्त ने कपिल सिब्बल की तुलना भारतीय बैंकों के हजारों करोड़ रुपये का घोटाला कर लंदन भागे कारोबारी विजय माल्या से की।

बरखा ने एक अन्य ट्वीट में लिखा है, ‘मुझे बताया गया है कि कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी मोदी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) का बहाना बनाकर कर्मचारियों को निकालना चाहते हैं। उनका कहना है कि मोदी ने चैनल को चलने नहीं दिया, लेकिन बेलाग-लपेट कहूं तो सरकार का इससे कोई लेना-देना नहीं है। इन दोनों, पति और पत्नी ने कर्मचारियों से कोई बात नहीं की, चैनल बंद कर दिया और छुट्टियां मनाने लंदन चले गए और इसने मुझे मजबूर किया कि मैं उन्हें (कपिल सिब्बल) माल्या (विजय माल्या) कहूं।’

बरखा दत्त ने कपिल सिब्बल पर उन्हें धमकी देने का भी आरोप लगाते हुए एक ट्वीट में लिखा, “पत्रकारों के अधिकारों के लिए लड़ने पर मुझे धमकी दी गई। मुझे कहा गया कि आप सिब्बल को माल्या से तुलना करने वाला ई-मेल को वापस लीजिए, लेकिन मैंने इनकार कर दिया। मैं तिरंगा टीवी के कर्मचारियों का समर्थन करती हूं और कानूनी तौर पर लड़ने के लिए उनकी मदद करती रहूंगी।’’

रिपोर्ट के मुताबिक, बरखा दत्त सहित तिरंगा टीवी’ के कर्मचारी इस मामले में कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी के ऊपर कानूनी कार्रवाई करने का विचार कर रहे हैं। वहीं, बरखा दत्त ने संपादकों के संगठन एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया से इस मामले में दखल देने की अपील की है।

बरखा के ट्वीट के बाद चैनल के कर्मचारियों से मिले सिब्बल

इस बीच समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, पत्रकार बरखा दत्त के ट्वीट के बाद वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने एचटीएन तिरंगा टीवी चैनल के 200 कर्मचारियों के लंबित वेतन के मसले को सुलझाने के लिए सोमवार को चैनल के विभागीय प्रमुखों से अपने आवास पर मुलाकात की। सिब्बल और चैनल के विभागीय प्रमुख के बीच हुई इस बैठक के नतीजों के बारे में हालांकि कुछ खुलासा नहीं किया गया, लेकिन सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि बैठक में चैनल में वर्तमान में चल रही भारी छंटनी के मद्देनजर पत्रकारों की लंबित मांगों पर विचार-विमर्श किया गया।

नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर कर्मचारियों ने आईएएनएस को बताया कि 40-50 कर्मियों को पहले ही एक महीने के अतिरिक्त वेतन के साथ चैनल छोड़ने को कहा गया है। कर्मचारियों ने बताया, “हालांकि जो अभी तक कार्यरत हैं उनके संबंध में हमारी मांग है कि चैनल पूरी तरह बंद होने की सूरत में उन्हें छह महीने का वेतन दिया जाए। चैनल में लाइव रिकॉर्डिग बंद कर दी गई है। वर्तमान में सिर्फ एक से दो बुलेटिन चलती है।”

जानकारी के मुताबिक, अधिकांश कर्मचारी नौकरी की तलाश में हैं। इस मामले में सिब्बल या उनकी पत्नी की ओर से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है। मूल रूप से हार्वेस्ट टीवी नेटवर्क के नाम से जाने जाने वाला एचटीएन टीवी चैनल इसी साल 26 जनवरी को लाइव हुआ था। बाद में इसका नाम बदलकर एचटीएन तिरंगा टीवी कर दिया गया।चैनल के कर्मचारियों का कहना है कि चैनल का प्रसारण जल्द ही बंद होने वाला है। इस चैनल से बरखा दत्त, करण थापर और मनीष छिब्बर जैसे वरिष्ठ पत्रकार भी जुड़े हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here