बुलंदशहर मामले पर कांग्रेस के शहज़ाद पूनावाला ने गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग को लिखी चिट्ठी, बजरंग दल पर बैन की मांग की

0

बुलंदशहर के खुर्जा नगर में मुस्लिम युगल को बजरंग दल के गुंडो द्वार मारपीट की घटना पर कांग्रेस के शहज़ाद पूनावाला ने गृह मंत्रालय और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग को चिट्ठी लिख बजरंग दल को बैन की मांग की हैं।

शहज़ाद पूनावाला ने लिखा है, उत्तर प्रदेश के खुर्जा में बजरंग दल के गुंडों द्वारा किए गए अत्यंत निंदनीय अपमानजनक घटना पर भारतीय दंड संहिता 1860 की विभिन्न धाराओं में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग तत्काल और तत्काल ध्यान दें।

उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर के खुर्जा में बजरंग दल के गुंडों का एक वीडियो है, जिसमें वे बेरहमी से मुस्लिम जोड़े के साथ मारपीट कर रहे हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि दोनों’ हिंदू पड़ोस को गंदा कर रहे है। वीडियो में, बजरंग दल के गुंडों की निर्दयता साफ तौर पर देखी जा सकती है।

Also Read:  मानक के आधार पर किसी व्यक्ति को 'देशभक्त' या 'देशद्रोही' नहीं मानती सरकार, आरटीआई के तहत मंत्रालय का जवाब
बुलंदशहर
janta ka reporter

हमलावरों ने तो औरत को भी नहीं बख्शा। महिला की भारी छड़ी के साथ पिटाई की जा रही है। जो दया के लिए भीख मांग रही है।

खुर्जा पुलिस थाने के एसएचओ ने जनता का रिपोर्टर को पुष्टि करते हुए बताया गिरफ्तार किए गए लोगों में तीन बजरंग दल के थे। जिसमें बजरंग दल के जिला संयोजक भी शामिल है।

यह एक सांप्रदायिक प्रवृत्ति है जो देश में लगातार बढ़ रही है और दिखाती है कि कैसे दक्षिणपंथी ताकतें कानून के शासन को कम कर रही हैं ।

हमने हाल ही में गाय के मांस की अफवाह से दादरी में अखलाक की हत्या देखी है, गुजरात में गौ रक्षकों द्वारा एक मुस्लिम की हत्या, ऊना (गुजरात) में चार दलितों पर हमला, झारखंड में मिनहाज़ अंसारी की पुलिस हिरासत में हत्या, उत्तर भारत में गौ रक्षकों द्वारा जाहिद और नोमान की हत्या, और इस्से भी अधिक ऐसे मामले हैं।

Also Read:  केंद्रीय सूचना आयोग ने कहा, देशद्रोह के मामलों का सामना कर रहे लोगों की सूची सार्वजनिक करे गृह मंत्रालय

केंद्र सरकार और गृह मंत्रालय को इस तरह की सांप्रदायिक घटनाओं का संज्ञान लेना चाहिए, देश में कुछ तत्व विशेष रूप से बजरंग दल द्वारा सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है।

इस संगठन पर एक राष्ट्रव्यापी प्रतिबंध लगना चाहिए जो अल कायदा की तरह आतंक फैलाता है।

एनसीएम इस मामले की जांच राज्य सरकार और पुलिस निर्णायक ऐसे आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सुनिश्चित करे।

सबूत स्पष्ट रूप से दिखाते है कि यह संविधान में निहित अनुच्छेद 14,19,21 और 25 के तहत भारत के संविधान द्वारा प्रदत्त मौलिक अधिकारों पर हमला है और क्या हम कल्पना कर सकते हैं, एक ऐसा भारत जहां मुसलमान और हिंदु एक साथ रहने की कल्पना भी नहीं कर सकते?

Also Read:  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण राणे ने पार्टी से दिया इस्तीफा, BJP में हो सकते हैं शामिल

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के जनपद बुलंदशहर के खुर्जा नगर में मुस्लिम युगल को बेरहमी से पीटने का वीडियों वायरल होने के बाद बुलंदशहर पुलिस ने जनता का रिपोर्टर को सूचना देते हुए बताया इस प्रकरण में नामज़द बजरंग दल के कार्यकर्ताओं  के खिलाफ गंभीर धाराओं में मामला दर्ज कर लिया गया है, और आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

ये भी पढ़े-जनता का रिपोर्टर की खबर का असर, मुस्लिम युगल के साथ मारपीट करने वाले बजरंग दल के गुंडो के खिलाफ गंभीर धाराओं में मामला दर्ज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here