नोटबंदी: चार घंटे लाइन में खड़े रहने के बाद बैंक ने थमा दिए 20 हज़ार के 15 किलो सिक्के

0

नोटबंदी से लोग बैंको की लंबी-लंबी कतारों में लगे है और पैसे ना मिलने से परेशान हैं लेकिन उनमें से ऐसा शख्स है जो पैसा मिलने की वजह से भी परेशान है, इनकी परेशानी की वजह है सिक्कों में बैंक से मिले 20,000 रुपए।

राजधानी दिल्ली के जसोला में रहने वाले इम्तियाज आलम के साथ कुछ ऐसी ही घटना घटी जिसे सुनकर हैरान रह जाएंगे आप।

दरअसल, दिल्ली के बैंक में पैसे निकलने के लिए इम्तियाज आलम काफी देर से लाइन में खड़े थे। वह जसोला के जामिया को-ऑपरेटिव बैंक से कुछ रुपये निकालने गए थे, लेकिन कैश की कमी के चलते उन्हें 20 हजार रुपये का भुगतान 10 रुपये के सिक्कों के रूप में किया गया। इन 10-10 रुपये के सिक्कों का वजन 15 किलो था

Also Read:  अर्नब गोस्वामी पर अरूण शौरी ने कहा, "सबसे पहले टाइम्स नाउ के प्रोग्राम पर पाबन्दी लगनी चाहिए "

delhi-man-coin_650x400_61479539049

पेशे से जनसंपर्क अधिकारी आलम 500 और 1000 रुपये के अपने पुराने नोट बदलवाने शुक्रवार को जामिया को-ऑपरेटिव बैंक गए थे, लेकिन बैंक मैनेजर ने उन्हें बताया कि फंड की कमी है और वह बस 2000 रुपये तक ही बदलवा सकते हैं।

Congress advt 2

लेकिन आलम ने जब मैनेजर को बताया कि उन्हें 20,000 रुपये की सख्त जरूरत है, तो मैनेजर तैयार तो हो गए, लेकिन एक शर्त के साथ कि वह उन्हें 10 रुपये के सिक्कों में ही उतने पैसे दे सकते हैं.

Also Read:  योगी बोले- जब सड़कों पर नमाज नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी रोकने का कोई अधिकार नहीं

delhi-man-coin_650x400_61479547188

एनडीटीवी की खबर के अनुसार, आलम बताते हैं, ‘पहले मैंने सोचा कि इसे (सिक्कों से भरी थैलियों को) लेकर मैं जाऊंगा कैसे, लेकिन मैं तैयार हो गया… आखिर थे तो ये वैध पैसे ही.’ उन्होंने इनमें से कुछ सिक्कों से रेस्त्रां के बिल और टैक्सी किराया चुका दिया. इसके साथ वह इन सिक्कों से 2,000 रुपये का छुट्टा देने का भी ऑफर दिया है.

Also Read:  केंद्रीय मंत्री बोले, मेट्रो किराया वृद्धि रोकने के लिए दिल्ली सरकार को देना होगा सालाना 3,000 करोड़ रुपये

गौरतलब है कि देश में कालेधन पर अंकुश लगाने के मकसद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीती 8 नवंबर आधी रात के बाद से 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों का चलन बंद करने की घोषणा की थी. इसके बाद से कई लोग भारी नकदी संकट से जूझ रहे हैं और बैंकों एवं एटीएम की कतार में खड़े हैं. हालांकि सरकार ने उनकी मुसीबतें कम करने के लिए इन 10 दिनों में कई कदम उठाए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here