मुंबई: 13 साल की रेप पीड़ित लड़की से जन्मे बच्चे की मौत, सुप्रीम कोर्ट ने दी थी गर्भपात की इजाजत

0
2
झारखंड
file photo: Indian Express

बलात्कार पीड़िता 13 वर्षीय बच्ची ने जिस शिशु को जन्म दिया था, उसकी महज 48 घंटे के बाद मुंबई के सरकारी अस्पताल में मौत हो गई। चिकित्सकों ने यह जानकारी दी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार(6 सितंबर) को लड़की को चिकित्सीय आधार पर 32 हफ्ते का गर्भ गिराने की इजाजत दी थी।

प्रतीकात्मक तस्वीर: Indian Express.

एक चिकित्सक ने पहले बताया था कि शुक्रवार को लड़की ने सीजेरियन सेक्शन ऑपरेशन के बाद एक शिशु को जन्म दिया था। शिशु का वजन 1.8 किलोग्राम था, लेकिन रविवार सुबह लगभग साढ़े दस बजे उस शिशु की मौत हो गई। अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि समयपूर्व जन्मे नवजात को जेजे अस्पताल की नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट में रखा गया था, उसके अधिकतर अंग पूरी तरह विकसित भी नहीं हुए थे।

न्यूज एजेंसी भाषा के मुताबिक, उन्होंने बताया कि रविवार को उसकी स्थिति गंभीर हो गई थी और चिकित्सकों ने उसे ऑक्सीजन मशीन से हटाकर वेंटिलेटर पर रख दिया था। एक चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि शिशु की मौत की वजह के बारे में अस्पताल कुछ भी नहीं कह सकता है, क्योंकि अभी तक पोस्टमार्टम रिपोर्ट तैयार नहीं हुई है।

शिशु को जन्म देने वाली लड़की अभी भी अस्पताल में भर्ती है और स्त्रीरोग विशेषज्ञ अशोक आनंद उसका उपचार कर रहे हैं। डॉ. आनंद ने कहा कि उसकी सेहत में सुधार के साथ ही उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। छह सितंबर को प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने आदेश दिया था कि लड़की पर चिकित्सीय गर्भ समापन प्रक्रिया जल्द से जल्द की जाए, बेहतर है कि आठ सितंबर को ही की जाए।

शीर्ष अदालत ने चिकित्सीय बोर्ड की रिपोर्ट पर गौर करने के बाद यह आदेश दिया था। बोर्ड का गठन शीर्ष अदालत ने ही किया था और उसमें जेजे अस्पताल के चिकित्सक भी शामिल थे। पीड़िता सातवीं कक्षा की छात्रा है और मुंबई की ही रहने वाली है। कानूनन 20 हफ्तों से अधिक का गर्भ गिराने पर रोक है, इसलिए पीड़िता को इसकी इजाजत के लिए शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ा था।

पीठ ने जोखिम के कारकों पर गौर करते हुए अस्पताल से कहा था कि वह गर्भपात से एक दिन पहले ही लड़की को भर्ती कर ले। गर्भ के चिकित्सीय समापन कानून की धारा 3 (2)(बी) के तहत बीस हफ्तों से अधिक के गर्भ का समापन करना प्रतिबंधित है।

जेजे अस्पताल के चिकित्सकों ने कहा कि लड़की के परिजन पहले तो गर्भपात करवाना चाहते थे, लेकिन बाद में उन्होंने विचार बदल दिया और वे शिशु को रखने के बारे में सोचने लगे। लड़की के साथ कथित तौर पर उसके पिता के एक सहयोगी ने बलात्कार किया था। परिवार को पिछले महीने ही पता चला था कि लड़की गर्भवती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here