इलाज के नाम पर बच्चियों को लोहे के गर्म सरिये से दागा

0

राजस्थान में भीलवाड़ा के एमजी सरकारी अस्पताल में उपचार के लिए लाये गये दो शिशुओं के शरीर गर्म लोहे से दागे हुए मिले।

एम जी अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ ओ पी आगल ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि अस्पताल में शुक्रवार को चितौड़गढ़ जिले से नौ माह और रविवार को भीलवाड़ा जिले के आसंद थाना इलाके से दो साल की बच्ची को अस्पताल लाया गया।

Also Read:  राजस्थान में स्वाइनफलू से 42 लोगों की मौत, चिकुनगुनिया काबू में

दोनों शिशुओं के शरीर पर एक एक स्थान पर गर्म सरिये से दागे जाने के निशान हैं।
उन्होंने बताया कि दोनों बच्चियां निमोनिया और एनीमिया से पीड़ित थीं लेकिन तथाकथित झोलाछाप डॉक्टरों ने उनका उपचार करने के लिए उनके शरीर गर्म सरिये से दाग दिये।

भाषा की खबर के अनुसार,आगल ने बताया कि चितौड़गढ़ से लायी गयी बच्ची का इलाज किया गया और खून चढ़ाया गया। इस बीच परिजन उसे अस्पताल प्रशासन को बताये बिना ले कर चले गये जबकि दो साल की बच्ची का उपचार अस्पताल में जारी है।

Also Read:  10 coaches of Ranikhet Express derail in Rajasthan

आगल ने बताया कि अस्पताल प्रशासन ने बिना अनुमति के उपचाराधीन बच्ची को घर ले जाने और दोनों बच्चियों को लोहे के सरिये से दागने के मामले में पुलिस को सूचना दी गई है। पुलिस के स्तर पर यह मामला विचाराधीन है।
इधर भीलवाड़ा और चितौड़गढ़ पुलिस ने बताया कि भीलवाड़ा के सरकारी अस्पताल एम जी ने पुलिस को इस बारे में सूचना दी है। मामले की आरंभिक जांच की जा रही है। फिलहाल मामला दर्ज नहीं किया गया है।

Also Read:  अमेरिकी अभिनेत्री लिंडसे लोहान ने इस्लाम कबूल किया ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here