भ्रामक प्रचार मामले में अदालत के फैसले को चैलेंज करेंगे बाबा रामदेव

0

बाबा रामदेव ने मिथ्या छाप (मिस ब्रांडिंग) एवं भ्रामक प्रचार के पांच मामलों में दोषी पाए जाने पर एडीएम हरिद्वार (न्याय निर्णायक अधिकारी) द्वारा लगाए गए जुर्माने के फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय में चुनौती देने का फैसला किया हैै।

उन्होंने अपने ट्वीट में कहा “स्वदेशी यज्ञ के ख़िलाफ़ अपने आसुरी षड्यंत्र द्वारा उत्तराखंड कांग्रेस सरकार ने २०१२ में झूठा केस डाला था। हम उच्च कोर्ट में चैलेंज करेंगे”।

बाबा रामदेव ने इसे स्वदेशी यज्ञ के खिलाफ उत्तराखंड कांग्रेस सरकार की साजिश बताया और कहा कि हम इसे उच्च कोर्ट में चैलेंज करेंगे। पतंजलि को जुर्माने की यह धनराशि एक महीने के अंदर जमा करने के आदेश दिए गए थे साथ ही भविष्य में सुधार न करने पर जिला खाद्य सुरक्षा विभाग को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश भी जारी किए गए थे। जिस पर अब बाबा रामदेव ने ट्वीट कर जानकारी दी कि वे इस फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय जाएगें।

आपको बता दे कि बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि पर कोर्ट ने 11 लाख का जुर्माना लगाया है। मिथ्या छाप (मिस ब्रांडिंग) एवं भ्रामक प्रचार के पांच मामलों में दोषी पाए जाने पर एडीएम हरिद्वार (न्याय निर्णायक अधिकारी) ने पतंजलि आयुर्वेद की पांच उत्पादन यूनिटों पर ये जुर्माना लगाया है।

इस मामले से जुड़े नमूने 16 अगस्त 2012 को लिए गए थे। जिला खाद्य सुरक्षा विभाग की ओर से हरिद्वार प्रभारी योगेंद्र पांडेय ने कनखल स्थित दिव्य योग मंदिर से पतंजलि द्वारा उत्पादित बेसन, शहद, कच्ची घानी का सरसों का तेल, जैम एवं नमक के सैंपल भरे थे। जिन्हें जांच के लिए रुद्रपुर लैब में भेजा गया था।

रिपोर्ट में उत्पादों के सैंपल फेल पाए गए। इसे लेकर जिला खाद्य सुरक्षा विभाग ने एडीएम कोर्ट में वर्ष 2012 में वाद दायर किया था। पिछले चार सालों से कोर्ट में मुकदमे की सुनवाई चल रही थी। सुनवाई के दौरान पतंजलि की ओर से भी तथ्य रखे गए, जिन्हें कोर्ट ने अपर्याप्त मानते हुए फैसला सुनाया।

मीडिया रिपोट्स के अनुसार, कोर्ट ने माना कि पंतजलि जिन उत्पादों को अपनी यूनिटों में उत्पादित बताकर उनके लेबल पर बेच रही थी, वह किसी दूसरी यूनिटों में बने थे। यह सीधे तौर पर खाद्य सुरक्षा मानक अधिनियम-2006 की धारा 52-53 और फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड (पैकेजिंग एंड लेबलिंग रेग्यूलेशन-2011) की धारा 23.1(5) का उल्लंघन है।

इस पर एडीएम डॉ. ललित नारायण मिश्रा ने कच्ची घानी सरसों के तेल का सैंपल फेल होने पर 2.50 लाख का जुर्माना, नमक पर 2.50 लाख, पतंजलि जैम पर 2.50 लाख, बेसन पर 1.50 लाख और शहद का सैंपल फेल होने पर 2 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।

यह सभी उत्पाद पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ट्रेडिंग यूनिट डी-28 ओल्ड इंड्रस्टीज हरिद्वार, पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड यूनिट-3 पदार्था लक्सर, मैन्यूफैक्चर्ड एवं मार्केटिंग यूनिट-3, पतंजलि एवं हर्बल पार्क पदार्था लक्सर में उत्पादित किए जाने की बात कही गई थी।

"
"

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here