VIDEO: …जब अटल बिहारी वाजपेयी ने नरेंद्र मोदी को दी थी ‘राजधर्म’ निभाने की नसीहत

0

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार (16 अगस्त) शाम निधन हो गया। भारतीय राजनीति के अजातशत्रु कहे जाने वाले तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में गुरुवार शाम 5.05 बजे अंतिम सांस ली। उनके निधन पर सरकार ने सात दिन के राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया है। 93 वर्षीय भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कद्दावर नेता को गुर्दे में संक्रमण, मूत्र नली में संक्रमण, पेशाब की मात्रा कम होने और सीने में जकड़न की शिकायत के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था।

शुक्रवार को अपने प्रिय नेता पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को हजारों की संख्या में लोग अश्रूपूर्ण विदाई दिए।उनका अंतिम संस्कार यमुना के घाट पर ‘राष्ट्रीय स्मृति स्थल’ पर किया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, तमाम कैबिनेट मंत्रियों, मुख्यमंत्रियों, विपक्षी दलों के नेताओं और अन्य लोगों ने दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि दी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चन्द्रबाबू नायडू, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, सेना प्रमुख बिपिन रावत, नौसेना प्रमुख सुनील लाम्बा और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने वाजपेयी के अंतिम दर्शन किए।

पीएम मोदी को याद दिलाया था ‘राजधर्म’

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के बाद उनसे जुड़े पुरानी यादों को आज याद किया जा रहा है। इस बीच अटल जी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने (तत्कालीन पीएम अटल बिहारी वाजपेयी) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (उस वक्त गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री) को ‘राजधर्म’ का पालने करने की नसीहत दी थी। साल 2002 में गुजरात में हुए सांप्रदायिक दंगे के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने मीडिया के सामने उस वक्त राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी को ‘राजधर्म’ निभाने की नसीहत दी थी।

दरअसल, अटल बिहारी वाजपेयी अपने-पराए का भेद किए बिना सच कहने का साहस रखते थे। गुजरात दंगों के समय मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी के लिए उनका यह बयान आज भी मील का पत्थर बना हुआ है। उस वक्त गुजरात में अटल बिहारी वाजपेयी जब प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे तब एक पत्रकार ने उनसे सवाल किया कि क्या आप मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए कोई संदेश लेकर आए हैं।

पत्रकार के इस सवाल पर वाजपेयी ने कहा, ‘मुख्यमंत्री के लिए मेरा सिर्फ एक ही संदेश है कि वह राजधर्म का पालन करे…राजधर्म… ये शब्द काफी सार्थक है, मैं उसी का पालन कर रहा हूं… पालन करने का प्रयास कर रहा हूं… राजा के लिए, शासक के लिए प्रजा-प्रजा में भेद नहीं हो सकता। न जन्म के आधार पर, न जाति के आधार पर,न संप्रदाय के आधार पर…’

जब वाजपेयी जी राजधर्म पालने करने की नसीहत दे रहे थे तब उनके बगल में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी भी बैठे थे। उस वक्त बीच में ही मोदी ने कहा, ‘हम भी वही कर रहे हैं साहेब….।’ इसके बाद वाजपेयी जी ने आगे कहा, ‘मुझे विश्वास है कि नरेंद्र भाई यही कर रहे हैं।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here