असम में BJP को बड़ा झटका, पार्टी की कार्यप्रणाली से नाखुश विधायक ने विधानसभा की सदस्यता से दिया इस्तीफा

0

असम में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को बड़ा झटका लगा है। पार्टी के फैसलों और कार्यप्रणाली से नाखुश विधायक तेराश गोवाला ने विधानसभा की सदस्यता से मंगलवार (23 अक्टूबर) को इस्तीफा दे दिया। गोवाला विधानसभा में दुलियाजान सीट का प्रतिनिधित्व करते थे और उन्होंने असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को अपना इस्तीफा भेज दिया है। असम विधानसभा में पहली बार विधायक बने गोवाला ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने विधानसभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को भेज दिया है।

(HT File Photo)

आपको बता दें कि तेराश गोवाला दुलियाजान विधानसभा से विधायक हैं। उन्होंने इस्तीफा देने के कारणों के बारे में सीएम सोनोवाल को सूचित कर दिया है। समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक बीजेपी के एक वरिष्ठ नेता ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा, ‘हां, उन्होंने सोमवार को मुख्यमंत्री कार्यालय को अपना इस्तीफा भेजा।’ विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा के बारे में पूछे जाने पर गोवाला न कहा, ‘कई मुद्दे हैं। मैं बतौर विधायक अपने कर्तव्यों को पूरा करने में समर्थ नहीं हूं इसलिए नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मैं विधानसभा से इस्तीफा दे रहा हूं।’

जब उनसे खासकर असम गैस कंपनी लिमिटेड में उन्हें कोई पद नहीं देने के मुद्दे के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘वह एक कारण है। एजीसीएल दुलियाजान में है और वहां के लोगों ने मुझे अपना प्रतिनिधि चुना। उनकी मुझसे कुछ आकांक्षाएं हैं लेकिन मुझसे संपर्क किए बगैर ही कंपनी में नियुक्ति कर दी गई। मैं यह नहीं कह रहा कि आप मुझे यह पद दे दीजिए लेकिन कम से कम मुझसे संपर्क तो किया जाना चाहिए था।’

जब गोवाला से पूछा गया कि क्या पार्टी के दबाव में इस्तीफा वापस लेने की संभावना है तो उन्होंने कहा, ‘मैंने मुख्यमंत्री को मुद्दों के बारे में बता दिया है। यदि मुझे संतोषजनक उत्तर मिलता है तो मैं उस पर पुनर्विचार कर सकता हूं।’ गोवाला ने यह भी कहा कि उन्होंने त्यागपत्र विधानसभा अध्यक्ष हितेंद्र नाथ गोस्वामी को नहीं भेजा है, अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के साथ विचार विमर्श करने के बाद वह ऐसा करेंगे।

गौरतलब है कि असम की 126 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी के 61 प्रतिनिधि हैं। गोवाला ने इस्तीफा ऐसे समय में दिया है, जब एक दिन पहले सोनोवाल के नेतृत्व वाली सरकार ने बीजेपी और सहयोगी दलों के 40 विधायकों और नेताओं को राज्य के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में नियुक्त किया है। सोनोवाल ने सोमवार को 40 सरकारी निकायों में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और निदेशक के तौर पर बीजेपी, असम गण परिषद और बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट (बीपीएफ) के नेताओं समेत कई व्यक्तियों की नियुक्ति की थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here