जानिए परेश रावल के विवादित ट्वीट के बाद अरुंधती राय ने क्या प्रतिक्रिया दी?

0

बॉलीवुड के पॉपुलर एक्टर और बीजेपी सांसद परेश रावल ने रविवार (21 मई) को ट्वीट करते हुए लिखा कि, सेना की जीप से पत्थरबाज को बांधने की जगह पर अरुंधति राय को बांध दिया जाए। लेकिन उनके ट्वीट के बाद लेखिका अरुंधति राय ने भी अपना जवाब रखा है। बता दें कि, अरुंधति राय कश्मीर पर अपनी अलग राय रखने के लिए जानी जाती हैं और वह एक प्रसिद्ध लेखिका भी हैं।

अरुंधति राय

एनडीटीवी इंडिया से बात करते हुए अरुंधती राय ने परेश रावल के विवादित ट्वीट पर किसी तरह की टिप्पणी करने से मना कर दिया है। अरुंधती ने कहा कि, मैं इसे तूल नहीं देना चाहती और इस वक्त मैं कई जरूरी कामों में व्यस्त हूं। राय ने एनडीटीवी इंडिया से कहा कि वह अपनी नई किताब को लेकर उत्साहित हैं, जो अगले महीने दुनिया के 30 देशों में एक साथ रिलीज़ होने जा रही है।

गौरतलब है कि, परेश रावल ने अपने ट्विट से प्रसिद्ध लेखिका अरुंधति राय पर निशाना साधा था। परेश रावल ने रविवार (21 मई) को ट्वीट करते हुए लिखा था कि, सेना की जीप से पत्थरबाज को बांधने की जगह पर अरुंधति राय को बांध दिया जाए।

बता दें कि, घाटी के पत्थरबाजों से निपटने के लिए स्थानीय युवक को जीप से बांधकर मानव ढाल की तरह इस्तेमाल करने वाले मेजर नितिन गोगोई को सेना ने सम्मानित किया है। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने उस अधिकारी को प्रशंसा पत्र दिया है।

https://twitter.com/SirPareshRawal/status/866345474722320388?ref_src=twsrc%5Etfw&ref_url=http%3A%2F%2Fwww.jantakareporter.com%2Fhindi%2Fparesh-rawal-twite-arundhati-roy%2F125234%2F

बता दें कि, परेश रावल के इस ट्वीट के बाद ट्वीटर यूजर्स ने उनपर भीड़ को भड़काने का आरोप लगाया है। एक ट्वीटर यूजर ने लिखा कि हैं, ‘एक सांसद सदस्य उग्रवादी भीड़ को उकसा रहा है। एक थियेटर कलाकार और फिल्म अभिनेता एक लेख के खिलाफ हिंसा को प्रोत्साहित कर रहा है।’

https://twitter.com/sherryhanky/status/866350861017939968?ref_src=twsrc%5Etfw&ref_url=http%3A%2F%2Fwww.jantakareporter.com%2Fhindi%2Fparesh-rawal-twite-arundhati-roy%2F125234%2F

गौरतलब है कि, पिछले कुछ दिनों पहले जम्मू-कश्मीर में आर्मी की जीप से एक शख्स को बांधकर घुमाने का मामला सामने आया था। जिसपर तमाम संगठनों ने इसे मानवाधिकारों का हनन बताया था। वहीं लेखिका अरुंधति राय मानवाधिकार के मुद्दे पर लिखती रही हैं और कश्मीरी अलगाववादियों को उन्होंने समर्थन भी किया था।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here