दिल्ली: AIIMS से घर लाया गया अरुण जेटली का पार्थिव शरीर, कल होगा अंतिम संस्कार

0

लंबे समय से बीमार चल रहे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली का शनिवार को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में 12 बजकर 7 मिनट पर निधन हो गया। उनके निधन की खबर से देशभर को बड़ा झटका लगा है। अरुण जेटली का पार्थिव शरीर एम्स से उनके कैलाश कॉलोनी स्थित आवास पर लाया गया। रविवार दोपहर को निगमबोध घाट में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

अरुण जेटली

लंबी बीमारी के बाद 67 वर्षीय जेटली का शनिवार दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर एम्स में निधन हो गया। उनका कुछ सप्ताह से अस्पताल में इलाज चल रहा था। अरुण जेटली सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी बढ़ने पर 9 अगस्त से दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती हुए थे। लेकिन अस्पताल में भर्ती होने के बाद उनकी हालत लगातार बिगड़ती चली गई।

एम्स ने एक बयान जारी कर कहा है कि वे बेहद दुख के साथ सूचित कर रहे हैं कि 24 अगस्त को 12 बजकर 7 मिनट पर माननीय सांसद अरुण जेटली अब हमारे बीच में नहीं रहे। अरुण जेटली को 9 अगस्त को एम्स (AIIMS) में भर्ती कराया गया था। एम्स के वरिष्ठ डॉक्टर उनका इलाज कर रहे थे।

रविवार सुबह उनका पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय ले जाया जाएगा जहां राजनीतिक दलों के नेता उन्हें अंतिम विदाई देंगे। भाजपा मुख्यालय से पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए निगमबोध घाट ले जाया जाएगा। पार्टी के एक पदाधिकारी ने कहा, “जेटली का पार्थिव शरीर रविवार सुबह 10 बजे भाजपा कार्यालय पहुंचेगा और उसके बाद अपराह्न् दो बजे निगम बोध घाट पर उनका अंतिम संस्कार होगा।”

बता दें कि जेटली पिछले करीब 2 साल से बीमार चल रहे हैं, वह सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीड़ित हैं। किडनी संबंधी बीमारी के बाद पिछले साल मई में उन्हें किडनी प्रत्यारोपित की गई थी। लेकिन किडनी की बीमारी के साथ-साथ जेटली कैंसर से भी जूझ रहे हैं। उनके बायें पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर हो गया है जिसकी सर्जरी के लिए जेटली इसी साल जनवरी में अमेरिका भी गए थे। अरुण जेटली ने पिछली मोदी सरकार में वित्त मंत्रालय के साथ-साथ कुछ समय के लिए रक्षा मंत्रालय की भी जिम्मेदारी संभाली थी। बीमारी की वजह से इस बार वह मोदी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here