अलीगढ़: AMU को कथित तौर पर ‘आतंकवादियों का विश्वविद्यालय’ बताते हुए लाइव कर रहे अर्नब गोस्वामी के सहयोगियों और छात्रों के बीच धक्का-मुक्की

0

इस साल होने वाले आगामी लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) सियासी अखाड़ा बनता जा रहा है। मंगलवार (12 फरवरी) को विश्वविद्यालय में उस वक्त भारी हंगामा हो गया जब अर्नब गोस्वामी के चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के दो महिला रिपोर्टर बिना इजाजत कैंपस के अंदर से लाइव रिपोर्टिंग करना शुरू कर दिए और विश्वविद्यालय को कथित तौर पर ‘आतंकवादियों का विश्वविद्यालय’ बताने लगे। नाराज छात्रों ने ‘रिपब्लिक टीवी’ के कर्मचारियों को परिसर से बाहर निकाल दिया।

आरोप है कि अर्नब की महिला रिपोर्टर ने अपनी रिपोर्टिंग की शुरूआत करते हुए कथित तौर पर कहा, ‘देखिए आतंकवादियों के परिसर से डायरेक्ट लाइव…’ जिसका वहां मौजूद छात्रों ने विश्वविद्यालय को आतंकवाद का केंद्र बताने का विरोध किया, फिर भी चैनल के कर्मचारी नहीं माने जिसके बाद दोनों के बीच धक्का-मुक्की शुरू हो गई और चैनल के कर्मचारियों को लाइव रिपोर्टिंग करने से रोक दिया गया। इस दौरान कैमरामैन के साथ मामूली हाथापाई भी हुई, जिसके बाद स्थानीय पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा।

‘रिपब्लिक टीवी’ के कर्मियों से अभद्रता!

वहीं, पुलिस का कहना है कि छात्रों और पत्रकारों के बीच यह हंगामा विश्वविद्यालय में होने वाले एक कथित कार्यक्रम को लाइव करने से रोकने के बाद शुरू जो देखते ही देखते हाथापाई में तब्दील हो गई। पुलिस के मुताबिक, एएमयू में आयोजित एक बैठक की कवरेज करने आए ‘रिपब्लिक टीवी’ के कर्मियों के साथ छात्रों द्वारा कथित तौर पर अभद्रता की गई है। पुलिस का कहना है कि इस दौरान कैंपस में चैनल की दो रिपोर्टर और कैमरामैन के साथ छात्रों ने धक्का-मुक्की भी की और उनका कैमरा तोड़ गया।

छात्रों का क्या है आरोप?

AMU के छात्र नेता शरजील उस्मानी ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से कहा, “रिपब्लिक टीवी की दो महिला रिपोर्टर कैंपस में आकर रिपोर्टिंग कर रही थीं। वह लोग कैंपस से ही लाइव चला रहे थे। मुझे समझ में नहीं आया कि वह लोग किस चीज की रिपोर्टिंग करने के लिए आए थे, क्योंकि यहां तो कोई कार्यक्रम या समारोह था नहीं। उन्होंने जब रिपोर्टिंग करनी शुरू की तो कहा- ‘रिपोर्टिंग लाइव ऑफ द कैंपस ऑफ टेरेरिस्ट…’ (आतंकवादियों के परिसर से डायरेक्ट लाइव रिपोर्टर) इस पर हमने कैमरामैन को रोकते हुए कहा कि यह क्या बदतमीजी है? जिसके बाद उसने मुझे धक्का मारने हुए कहा कि जाओ अपना काम करो।”

उस्मानी ने आगे कहा, “कैमरामैन के साथ में दो महिला रिपोर्टर थीं, वह लोग भी हम लोगों के साथ बदतमीजी करना शुरू कर दिए। इसके बाद कैमरे के सामने वह लोग जोर-जोर चिल्लाकर कहने लगे देखिए कैसे आतंकवादी बच्चे अपना असली चेहरा दिखा रहे हैं। जब हमने कैमरे को बंद करने की कोशिश तो कैमरामैन ने पेन से मेरे हाथ पर हमला कर दिया, जिसके बाद मैंने भी उसको एक थप्पड़ मारकर बाहर निकाल दिए। महिला रिपोर्टर के साथ हम लोगों ने कुछ नहीं किया। महिला रिपोर्टरों के साथ बदसलूकी का आरोप गलत है। दोनों महिला रिपोर्टरों को सम्मानपूर्वक कैंपस से बाहर निकाल दिया गया।”

पुलिस बोली- शिकायत मिलने पर करेंगे कार्रवाई

वहीं, एसपी सिटी आशुतोष द्विवेदी ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से फोन पर बातचीत में कहा, “अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) के कैंपस में आज (मंगलवार) समाचार चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ के रिपोर्टर और कैमरामैन के साथ धक्का-मुक्की हुई है, जिसमें उनका कैमरा डैमेज हो गया है। एएमयू में यूनिवर्सिटी का एक कार्यक्रम चल रहा था, जिसे ‘रिपब्लिक टीवी’ के रिपोर्टर लाइव करना चा रहे थे, लेकिन एएमयू प्रशासन और छात्रों ने इसकी इजाजत नहीं दी। विश्वविद्यालय ने कहा कि हम इस कार्यक्रम को लाइव नहीं कराना चाहते हैं। फिर भी मना करने के बावजूद जब इन्होंने (रिपोर्टर) कार्यक्रम को लाइव करने की कोशिश की तो वहां मौजूद छात्रों ने उनके साथ धक्का-मुक्की करनी शुरू कर दी, जिससे उनका कैमरा डैमेज हो गया।”

एसपी आशुतोष द्विवेदी ने आगे कहा, “इस दौरान रिपोर्टर और कैमरामैन के साथ काफी बदसलूकी हुई है, लेकिन हम लोग विश्वविद्यालय में बिना इजाजत प्रवेश नहीं कर सकते हैं। अगर विश्वविद्यालय प्रशासन हमसे गुजारिश करता है तो हम लोग इस मामले में हस्तक्षेप करेंगे। फिलहाल, चैनल के रिपोर्टर या कैमरामैन द्वारा पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है, लेकिन उन लोगों ने हमसे संपर्क किया है और वह लोग शिकायत दर्ज करवाने की बात कह रहे हैं। अगर हमारे पास शिकायत आती है तो हम मामले में FIR दर्ज कर आगे की उचित कार्रवाई करेंगे।”

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here