क्या PM मोदी ने अर्नब गोस्वामी को यह बताया कि वह विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान की कैद से वापस लाना नहीं चाहते थे?

0

प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा चुनाव 2019 से पहले शुक्रवार को अर्नब गोस्वामी के हिंदी चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ को एक विस्तृत इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में प्रधानमंत्री मोदी ने कई बड़े सवालों के जवाब दिए हैं। उन्होंने बेरोजगारी, सेना, आतंकवाद से लेकर तमाम मुद्दों पर जवाब दिया है। चैनल के एडिटर इन चीफ अर्नब गोस्वामी को दिए इस इंटरव्यू में पीएम मोदी ने कांग्रेस सहित विपक्ष से लेकर पुलवामा आतंकी हमला, पाकिस्तान के खिलाफ एयर स्ट्राइक, वायुसेना के पायलट अभिनंदन वर्धमान की वापसी, पाकिस्तानी समकक्ष इमरान खान पर भी वे खुलकर बोले।

हालांकि, यह इंटरव्यू विवादों में घिरता हुआ नजर आ रहा है। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी को दिए इस इंटरव्यू के दौरान कथित रूप से यह खुलासा करने के बाद उन्हें व्यापक रूप से निंदा का सामना करना पड़ रहा है कि वह विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को पाकिस्तान की कैद से वापस नहीं चाहते थे। गोस्वामी से बात करते हुए पीएम मोदी ने भारतीय वायु सेना के अधिकारी को पाकिस्तान से वापस लाने के लिए कथित तौर पर विपक्षी दलों को दोषी ठहराया।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश के प्रति उनके प्यार पर कोई संदेह नहीं कर सकता। पुलवामा को विपक्ष द्वारा पाकिस्तानी पीएम इमरान खान और पीएम नरेंद्र मोदी के बीच की मैच फिक्सिंग बताने पर और प्रधानमंत्री पर निजी हमले पर उन्होंने कहा कि इस देश का कोई भी व्‍यक्‍ति नरेंद्र मोदी की देश भक्‍ति पर शक नहीं कर सकता। मेरा जीवन बोलता है। इस प्रकार की सोच देश की किसी राजनीतिक दल के नेतृत्‍व के पास है तो देश को सोचना चाहिए कि ऐसे लोग क्‍या करेंगे। जनता को सोचना चाहिए कि ऐसी गिरी हुई राजनीति करने वालों को समर्थन देना चाहिए या नहीं।

अभिनंदन पर पीएम मोदी ने कहा, “आपको याद होगा जब अभिनन्दन की घटना घटी तो देश के सभी दलों को कहना चाहिए था कि ‘हमें देश की सेना पर गर्व है की उसने F16 मार गिराया।’ इसके बजाय वे अभिनंदन वापस कब आएगा, इसपर चल पड़े।” उन्होंने आगे कहा, “उस दिन रात को विपक्ष ने कैंडल लाइट मार्च निकलने और पुलवामा हमले को मुद्दा बनाने का षड्यंत्र तैयार कर लिया था। वो तो शाम को 4-5 बजे तक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने अभिनंदन की रिहाई की घोषणा कर दी। जिससे इनकी योजना धरी की धरी रह गई।”

हालांकि, पीएम मोदी को शायद इस बात का अंदाजा नहीं था कि उन्होंने अनजाने में स्वीकार किया कि वह इस साल के लोकसभा चुनावों में चुनावी लाभ के लिए पुलवामा और उसके बाद हुए एयर स्ट्राइक हमलों के मुद्दों को जीवित रखने के इच्छुक थे। बता दें कि विंग कमांडर अभिनंदन का नाम पाकिस्तान में आतंकवादी ठिकानों पर की गई भारतीय वायु सेना की कार्रवाई के दौरान चर्चा में आया था।

बता दें कि महाराष्ट्र नव निर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे ने हाल ही में कहा था कि पुलवामा हमले में 40 जवान शहीद हो गए। क्या हमें सवाल भी नहीं पूछना चाहिए? दिसंबर में, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल बैंकाक में पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार से मिले थे। इस बैठक की पारदर्शिता के बारे में हमें कौन बताएगा? ठाकरे ने कहा था कि अगर NSA अजीत डोभाल की जांच की जाए तो पुलवामा आतंकी हमले के पीछे की सच्चाई सामने आ जाएगी।

विपक्षी दलों के आरोपों का जवाब देते हुए कि उन्होंने पिछले सप्ताह राष्ट्र को संबोधित करते हुए आचार संहिता के उल्लंघन के आरोपों पर कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ कि आचार संहिता लागू होने के दौरान एक महत्वपूर्ण घोषणा की गई। पीएम मोदी ने कहा, “कई बार ऐसा हुआ कि चुनाव आयोग की आचार संहिता लागू होने के बावजूद कई राज्यों का बजट सत्र अभी भी जारी है। बजट आ रहे हैं, भाषण हो रहे हैं। सब कुछ हो रहा है।”

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here