अर्नब गोस्वामी ने पत्रकारिता की पाठशाला में दिए ज्वलंत सवालों के जवाब

0

एक प्रमुख न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम बोलते हुए पत्रकार अर्नब गोस्वामी ने मीडिया की वास्तविकता और बदलतते हालातों पर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि मैं ऐसे मीडिया की कल्पना नहीं करता जो केवल नोएडा की सीमित जगह से देश के हालातों का प्रतिनिधित्व करता हो। देश की बात कहने के लिए कलकत्ता, बिहार, उत्तर प्रदेश हर जगह से देश की प्रतिनिधित्व करने वाले मीडिया की जरूरत है।

हिन्दी समाचार न्यूज़ 24 के कार्यक्रम मंथन में एंकर मानक से बात करते हुए अर्नब ने कहा कि आज बहुत सारी मीडिया कम्प्रोमाइज हो गई है लेकिन हमारे रिपोटर्स कम्प्रोमाइज नहीं हुए है। एडिटर्स कम्प्रोमाइज हुए है। पत्रकारों की नई पीढ़ी कम्प्रोमाइज नहीं है। उन्होंने कहा कि जब टाॅप के लोग कम्प्रोमाइज होते है तो रिपोटर स्वत्रंत नहीं हो सकता।

उन्होंने बताया कि पिछले आठ सालों में मुझसे कई सारे लोगों ने सवाल किया कैसे आपने इतने सारे स्कैम्स पर से पर्दा उठाया तो मैंने उन्हें बताया कि ये सब मेरे रिपोटर्स की वजह से हुआ है क्योंकि वह स्वतंत्र थे।

आगे उन्होंने विस्तार से बात करते हुए बताया कि बहुत सारा मीडिया अब दिल्ली में फोकस हो चुका हैं। ये देश दिल्ली से नहीं चल सकता। 5 बाई 5 की जगह में आप सारे देश के मीडिया को जमा कर दे तो भारत की कहानी आप नहीं बता सकते।

आगे पत्रकारिता के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं पत्रकारिता के बेसिक कायदों को नहीं मानता हूं। न ही मुझे पत्रकारिता के स्कूलों में बुलाना चाहिए। क्योंकि वहां सिखाया जाता है कि तथ्य दिखाइयें। मैं कहता हूं कि तथ्य दिखाने से क्या फर्क पड़ेगा। आप अपने फोन पर ऐप्स खोलिए वहां तथ्य भरे पड़े है।

लेकिन मैं कहता हूं कि आपको चाहिए पाइंट आॅफ व्यू, आपको चाहिए ओपिनियन। आगे उन्होंने अलग-अलग विषयों पर अपनी बात रखी और विस्तार से भावी पत्रकारिता के मुद्दे पर बोलें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here