पंजाब में किसानों के लिए केजरीवाल ने जारी किया चुुनावी घोषणापत्र, कर्ज माफी और मुफ्त बिजली सहित कई वादे

0

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने अपने पंजाब दौरे के आखिरी दिन मोगा में किसानों के लिए घोषणापत्र जारी किया. घोषणा पत्र में किसानों को 12 घंटे मुफ्त बिजली देने का वादा किया गया है. साथ ही फसल बर्बाद होने पर किसानों को 20 हजार रुपये प्रति एकड़ मुआवजा देने की बात कही गई है.

भाषा की खबर के अनुसार, घोषणापत्र के मुताबिक किसी किसान के घर कुर्की नहीं होगी, साथ ही उनका कर्ज माफ किया जाएगा. 2018 तक सभी किसानों को कर्ज मुक्त किया जाएगा. मेनिफेस्टो में लिखा गया है कि सतलज-यमुना लिंक के लिए ली गई किसानों की जमीन वापस होगी.

Also Read:  केजरीवाल का एलजी के बहाने केंद्र सरकार पर हमला कहा, आप जीते, हम सब हारे; अब कर दे फाइल पर साईन

आटा-दाल स्कीम के तहत 10 लाख नए परिवार लाए जाएंगे और दूध, दवाओं में मिलावट करने वालों को उम्रकैद की सज़ा दी जाएगी. इसके अलावा राज्य में 25 हज़ार डेयरी फॉर्म खोलने का भी वादा किया गया है.

घोषणा पत्र समिति के अध्यक्ष कंवर संधू ने कहा कि पार्टी 1934 के सर छोटूराम अधिनियम (साहूकर के कर्ज से संबंधित) को फिर से लागू करेगी. इसके तहत कुल ब्याज किसी भी स्थिति में मूल राशि से अधिक नहीं होता है.

संधू ने कहा, ‘ऐसे सभी कर्ज खत्म कर दिए जाएंगे, जिनमें किसान मूल धन से दोगुना ब्याज अदा कर चुका है.’ ऐसे मामलों में साहूकार ने किसान की जिस संपत्ति पर कब्जा कर रखा है, उसे भी छुड़वा दिया जाएगा. कर्ज तले दबे किसान को उसकी जमीन और उसके घर से निकाला भी नहीं जाएगा.

Also Read:  Yadav-Bhushan's Swaraj Abhiyan might invite Anna later, refuse to rate Kejriwal's performance

उन्होंने कहा कि गरीब किसानों और खेत में काम करने वाले श्रमिकों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा. अनुसूचित जाति तथा पिछड़ा वर्ग के लोगों के कर्ज भी माफ कर दिए जाएंगे.

उन्होंने कहा, ‘अन्य किसानों के कर्ज पर ब्याज माफ कर दिया जाएगा. दिसंबर, 2018 तक पंजाब के किसान कर्ज से मुक्त हो जाएंगे.’ संधू ने कहा कि दिसंबर, 2018 में किसानों के कर्ज मुक्त होने तक जोर-जबरदस्ती से वसूली की कोई भी कार्रवाई नहीं की जाएगी.

Also Read:  Over 200 staff in Delhi CMO, some on a hefty payroll: Indian Express

संधू ने कहा कि किसान या खेतों में काम करने वाले श्रमिकों की बेटी की शादी के हफ्तेभर के भीतर शगुन के तौर पर 51,000 रुपये की राशि दी जाएगी. इसके अलावा किसान या खेतों में काम करने वाले श्रमिकों के घर बेटी के जन्म लेने पर उसके नाम पर बैंक खाते में 21,000 रुपये जमा कराए जाएंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here