‘मी टू’ अभियान के समर्थन में बोले ए आर रहमान, साफ-सुथरी और महिलाओं को सम्मान देने वाला बने फिल्म इंडस्ट्री

0

देश भर में चल रहे ‘मी टू’ (#MeToo) अभियान (यौन उत्पीड़न के खिलाफ अभियान) के तहत हर रोज चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। अमेरिका से शुरू हुए ‘मीटू’ आंदोलन ने भारत में भी भूचाल मचा दिया है। बॉलीवुड में चल रहे मी टू कैंपेन के बारे में अभी भी बॉलीवुड के कई दिग्गज बोलने से बच रहे हैं। हालांकि कई दिग्गज सितारे इस लड़ाई में पीड़ितों का साथ देते नजर आ रहे हैं। इसी बीच म्यूजिक के उस्ताद कहे जाने वाले ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित ए आर रहमान ने भी #MeToo पीड़ित महिलाओं के समर्थन में बयान दिया है।

Photo: AR Rahman’s Facebook page

भारत के लोकप्रिय संगीतकार ए आर रहमान ने कहा है कि भारत के ‘मी टू’ अभियान में इतनी क्षमता है कि वह मनोरंजन उद्योग (फिल्म इंडस्ट्री) को साफ-सुथरा कर सके और महिलाओं के प्रति सम्मानपूर्ण माहौल बना सके। ऑस्कर पुरस्कार से सम्मानित 51 वर्षीय रहमान ने सोशल मीडिया के जरिए सोमवार की रात अपना बयान साझा किया। उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य हमेशा से महिलाओं के लिए एक सुरक्षित कार्यस्थल का माहौल बनाने का रहा है।

समचार एजेंसी भाषा के मुताबिक उन्होंने कहा, “#मी टू अभियान देख रहा हूं। कुछ पीड़ितों और आरोपियों के नामों ने मुझे चौंकाया…मुझे अच्छा लगेगा अगर हमारा मनोरंजन उद्योग साफ-सुथरा हो और यहां महिलाओं के लिए सम्मानपूर्ण माहौल हो। उन सभी पीड़ितों को शक्ति और मजबूती मिले जो आगे आकर अपनी बात रख रही हैं।’ उन्होंने लिखा, ‘‘मैं और मेरी टीम ऐसा माहौल बनाने के लिए प्रतिबद्ध रहते हैं जहां सभी को अपना सर्वश्रेष्ठ काम करने के लिए सुरक्षित माहौल मिल सके, वह आगे बढ़ सकें और सफलता पा सकें।’

हालांकि रहमान का यह भी कहना था कि ‘इंटरनेट जस्टिस सिस्टम (इंटरनेट न्यायिक प्रणाली) बनाने से पहले लोग सावधानी बरतें। उन्होंने कहा, “सोशल मीडिया पीड़ितों को अपनी बात रखने के लिए स्वतंत्रता प्रदान करता है। अगर इसका गलत इस्तेमाल किया जाता है तो हमें इसे नया इंटरनेट जस्टिस सिस्टम बनाने में सावधानी बरतनी चाहिए।’ रहमान का यह बयान लंबे समय से उनके साथ गीत लेखन करने वाले सहयोगी वैरामुत्तु पर लगे अभद्र व्यवहार के कई सप्ताह बाद आया है। उन पर गायिका चिन्मय श्रीपदा सहित अन्य महिलाओं ने आरोप लगाए थे।

आपको बता दें कि भारत का ‘मी टू’ अभियान अभिनेत्री तनुश्री दत्ता द्वारा अभिनेता नाना पाटेकर पर लगाए गए एक दशक पुराने आरोप की कहानी साझा करने के बाद आया है। दत्ता का आरोप था कि 2008 में एक फिल्म के सेट पर पाटेकर ने उनका यौन उत्पीड़न किया था। नाना पाटेकर पर तनुश्री दत्ता द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद देश में शुरू हुआ ‘‘मी टू’’ अभियान तेजी से आगे बढ़ा है।

कई महिलाओं ने सामने आ कर विभिन्न शख्सियतों के खिलाफ अपनी शिकायत व्यक्त की है। इसके बाद फिल्म उद्योग की कई बड़ी हस्तियों फिल्म निर्देशक सुभाष घई, साजिद खान, विकास बहल, रजत कपूर और अभिनेता आलोक नाथ आदि पर यौन उत्पीड़न के आरोप सामने आए। इसके अलावा पूर्व विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर पर कई महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाई हैं। अकबर ने अपने खिलाफ लगे इन आरोपों को लेकर मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here