दुनियाभर में 2016 में 122 पत्रकार मारे गए, पांच पत्रकारों की भारत में गई जान

0

दुनियाभर में 2016 में 122 पत्रकार एवं मीडियाकर्मी मारे गए । एक नई रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से 93 मीडियाकर्मी विभिन्न वजहों से की गई हत्या, बम विस्फोट और गोलीबारी जैसी घटनाओं में मारे गए और अन्य की मौत दुर्घटनाओं में हुई। भारत में 2016 में पांच पत्रकार मारे गए और सूची में इसका स्थान आठवां है। इराक इस सूची में सबसे उपर है ।

इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स :आईएफजे: ने शुक्रवार को जारी अपनी सालाना रिपोर्ट में कहा है कि अफ्रीका, अमेरिका, एशिया प्रशांत, यूरोप, पश्चिम एशिया और अरब जगत के 23 देशों में पत्रकार हत्या, बम हमला और गोलीबारी जैसी घटनाओं में असमय मौत का शिकार बने ।

आईएफजे ने कहा कि 2015 में हत्या, बम हमला और गोलीबारी जैसी घटनाओं में 112 पत्रकार मारे गए थे और 2016 में यह संख्या घटकर 93 हुई है।

इराक अभी भी मीडियाकर्मियों के मारे जाने के मामले में :15 पत्रकारों के मारे जाने: के साथ इस सूची में सबसे उपर है । इराक के बाद अफगानिस्तान :13: और मेक्सिको :11: का स्थान है।

पत्रकार ट्रेड यूनियनों के सबसे बड़े वैश्विक संघ के प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार मेक्सिको के बाद यमन में आठ, ग्वाटेमाला में छह, सीरिया में छह और भारत तथा पाकिस्तान में पांच..पांच पत्रकार मारे गए ।

हत्या, बम विस्फोट और गोलीबारी जैसी घटनाओं में 93 पत्रकारों के मारे जाने के अलावा ब्राजील के 20 खेल पत्रकारों की मौत कोलंबिया के मेडेलीन शहर के उपर विमान दुर्घटना में हो गई। नौ रूसी पत्रकारों की मौत सैन्य विमान दुर्घटना में हो गई।

हालांकि 2016 में हत्या, बम विस्फोट और गोलीबारी जैसी घटनाओं में मारे गए पत्रकारों की संख्या 2015 के मुकाबले कम है। जारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here