कासगंज SP का सनसनीखेज खुलासा, कहा- ANI के पत्रकार ने चंदन गुप्ता के पिता को धमकी मिलने की ‘फर्जी’ खबर चलाई

0

उत्तर प्रदेश के कासगंज में गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के दिन तिरंगा यात्रा के दौरान हुई सांप्रदायिक हिंसा के दौरान मारे गए अभिषेक गुप्ता उर्फ चंदन का परिवार सदमे में है। इस बीच मीडिया में चंदन के पिता को धमकी मिलने की खबर चलने के बाद एक बार फिर कासगंज में खलबली मच गई है। चंदन के पिता का आरोप है कि बाइक सवार तीन लोगों ने गुरुवार (1 फरवरी) को उनको धमकी दी है।

Photo: Janta Ka Reporter

दरअसल, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गुरुवार को मृतक चंदन के पिता सुशील गुप्ता कासगंज पुलिस थाने पहुंचे थे। थाने में सुशील गुप्ता ने शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि कुछ अजारक तत्वों ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी है। इस धमकी के बाद उनके परिवार में खौफ का माहौल है। सुशील गुप्ता की शिकायत के बाद उनकी घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

ANI पत्रकार ने चलाया फर्जी खबर!

इस बीच एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है। कासगंज पुलिस प्रमुख की मानें तो देश की प्रतिष्ठित समाचार एजेंसी ANI ने चंदन के पिता को धमकी देने वाली खबर ‘फर्जी’ चलाई है। कासगंज के पुलिस अधीक्षक पीयूष श्रीवास्तव ने इस बात की पुष्टि करते हुए संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने इस मामले पर दिल्ली में स्थित एएनआई के वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत में अपनी नाराजगी व्यक्त की है।

एसपी पीयूस श्रीवास्तव ने पत्रकारों से कहा कि मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि एएनआई नामक एक मीडिया चैनल है। उस चैनल के एक व्यक्ति ने हमारे बिना आधिकारिक पुष्टि के यह खबर चलाई है। उन्होंने पत्रकारों से अपील करते हुए कहा कि मैं आपको यह अनुरोध करना चाहूंगा कि जब भी आप कोई भी समाचार (कासगंज से संबंधित) चलाते हैं, तो कृपया हमारा आधिकारिक प्रतिक्रिया भी चलाएं।

एसपी ने कहा कि मैंने दिल्ली स्थित ANI मुख्यालय में उनके वरिष्ठ अधिकारियों से इस मामले पर बात कर उस व्यक्ति के खिलाफ (ANI पर खबर चलाने वाला) कार्रवाई करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि साथ ही उसके खिलाफ एक लिखित रिपोर्ट भी भेज रहा हूं, ताकि भविष्य में ऐसी घटना को दोहराया ना जाए। कासगंज पुलिस कप्तान ने कहा कि मुझे जानकारी मिली है कि कुछ पत्रकारों द्वारा दबाव बनाकर चंदन के पिता सुशील गुप्ता से धमकी वाला बयान दिलवाया गया है।

उन्होंने कहा कि इसकी जांच की जा रही है और जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। वहीं, एसपी पीयूष श्रीवास्तव के आरोपों पर न्यूज एजेंसी ANI की संपादक स्मिता प्रकाश ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से बातचीत में कहा कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं है। इतना कहने के बाद उन्होंने फोन काट दिया।

दरअसल, नाम न छापने की शर्त पर कासगंज जिले के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने ‘जनता का रिपोर्टर’ से एक्सक्लूसिव बातचीत में कहा कि चंदन के घर गए कुछ पत्रकारों के बीच आपस में किसी बात को लेकर विवाद हो गया। अधिकारी के मुताबिक, इस दौरान कुछ पत्रकारों ने चंदन के पिता पर दबाव बनाते हुए कहा कि, ‘अगर आपको नौकरी और पैसे चाहिए तो आप धमकी की बात कहिए।’

अधिकारी के मुताबिक, पत्रकारों द्वारा बार-बार दबाव बनाए जाने के बाद वह धमकी की बात ANI से कहने को तैयार हो गए। जिसके बाद उन्होंने गुरुवार सुबह न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में कुछ अजारक तत्वों द्वारा धमकी दिए जाने की बात कही। दैनिक जागरण से बातचीत में धमकी को लेकर कोतवाली प्रभारी रिपुदमन सिंह ने भी बताया है कि चंदन के पिता के घर पर पहले से ही एक दारोगा और चार सिपाही तैनात हैं, ऐसे में धमकी देने की बात को लेकर संदेह है।

चंदन के पिता ने क्या कहा?

दरअसल, चंदन के पिता सुशील गुप्ता ने बताया कि, ‘सुबह मैं घर के बाहर बैठा था। कुछ लोग बाइक पर आए। मेरे सामने बाइक रोकी और धमकी देते हुए बोले कि आरोपी जेल जा रहे हैं लेकिन दूसरे लोग अभी भी यहां हैं। हमसे दुश्मनी मोल मत लो, वरना देख लेंगे।’

इस दौरान सुशील गुप्ता ने कहा कि उनकी और उनके परिवार की जिंदगी खतरे में है। उन्होंने योगी सरकार से सुरक्षा की भी मांग की है। साथ ही परिवार की सुरक्षा के लिए लाइसेंसी हथियार की भी मांग की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हमें हथियार का लाइसेंस दें ताकि हम अपनी सुरक्षा कर सके।

आपको बता दें कि 26 जनवरी के मौके पर हुई हिंसा में चंदन गुप्ता को गोली लगने से मौत हो गई थी। यूपी सरकार ने पूरे मामले की जांच को एसआईटी को सौंप दिया है। उधर, चंदन की मौत के मामले के मुख्य आरोपी सलीम को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि यूपी पुलिस का दावा है कि तनावपूर्ण हालात अब धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here