आंध्र प्रदेश के मंदिरों में नए साल का उत्सव मनाने पर लगा प्रतिबंध, जारी हुआ नोटिस

0

आंध्र प्रदेश के मंदिरों में नये वर्ष के उत्सव को लेकर एक नया विवाद सामने आया है। शुक्रवार को राज्य के मंदिरों को नोटिस जारी करते हुए आदेश दिया गया है कि नये वर्ष की पूर्व संध्या पर मंदिरों पर फूलों की सजावट से दूर रहे और इस उत्सव को न मनाए। नोटिस में बताया गया है कि यह क्योंकि ये त्योहार हिंदू संस्कृति और आस्था का हिस्सा नहीं हैं।

आंध्र प्रदेश

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, आंध्र प्रदेश सरकार के एंडॉमेंट्स विभाग ने इस आदेश को जारी करते हुए कहा कि 1 जनवरी को मंदिरों को न सजाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह एक पश्चिमी उत्सव है। आंध्र प्रदेश के निधि विभाग का अंग माने जाने वाले हिंदू धर्म परिरक्षण ट्रस्ट (एचडीपीटी) ने एक सर्कुलर में कहा, ‘हिंदू संस्कृति के मुताबिक, उगाडी तेलुगू लोगों के लिए नया वर्ष होता है और लोगों को उस दिन मंदिरों में पूजा करनी चाहिए, कार्यक्रमों का आयोजन करना चाहिए।’

राज्यभर में 15,000 से अधिक मंदिर हैं, जिन्हें ए, बी और सी ग्रेड में वर्गीकृत किया गया है। श्रेणी ए, के मंदिर 1 करोड़ से अधिक आय दान के रूप में अर्जित करते हैं। आपको बता दे कि हर साल तिरुमला में प्रसिद्ध भगवान वेंटेश्वर मंदिर में नए साल की पूर्व संध्या पर उत्सव का आयोजन होता रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here