अमित शाह ने राहुल गांधी से की ‘इटालियन चश्मा’ उतारने की अपील, लेकिन उनके बॉस PM मोदी खुद इटालियन चश्मों के शौकीन हैं

0

भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार(10 अक्टूबर) को उत्तर प्रदेश के अमेठी में रैली की। भाजपा अध्यक्ष ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को हिन्दुस्तान का पराक्रम नहीं दिखता है, क्योंकि उनका चश्मा इटालियन है और इससे भारत की ताकत नहीं दिखती है।

File photo: NDTV

उन्होंने कहा कि राहुल बाबा, आप इटालियन चश्मा पहनते है, आप भारतीय परिप्रेक्ष्य से चीजों को नहीं देख सकते। यह राहुल गांधी की मां (सोनिया गांधी) की इटली मूल के संदर्भ में थी, जो इस समय कांग्रेस अध्यक्ष हैं। बता दें कि, यह कोई पहली बार नही है कि अमित शाह ने राहुल गांधी का मजाक उड़ाते हुए इस तरह से निशाना साधा हो। कुछ दिनों पहले, शाह ने गुजरात में अपनी रोड शो के दौरान इसी तरह की टिप्पणी की थी।

सोमवार(2 अक्टूबर) को अमित शाह ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था कि भाजपा शासनकाल में गुजरात में हुए विकास को देखने के लिए उन्हें ‘इटालियन चश्मा’ उतारकर ‘गुजराती चश्मा’ पहनना होगा। शाह ने कहा था कि कांग्रेस ने गुजरात को ममुमियां, पंजूमियां ओर दंगे दिए, लेकिन नरेंद्र मोदी ने राज्य को विकसित, शांत, समृद्ध और कर्फ्यू मुक्त बनाया।

साथ ही उन्होंने कहा था कि, “कांग्रेस हमें पूछ रही है कि केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार ने इन तीन वर्षों में गुजरात को क्या दिया है। मैं उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि मोदी सरकार ने गुजरात के लिए एम्स को मंजूरी दी, राजकोट के लिए एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, नर्मदा बांध की ऊंचाई बढ़ाने और छह लाख शहरी गरीबों को घरों के आवंटन के लिए मंजूरी दी।

हांलाकि, अमित शाह के आलोचक ने सोशल मीडिया पर उन्हें याद दिलाया कि इटालियन चश्में के शौकिन गांधी नहीं बल्कि उनके मालिक पीएम मोदी थे।

https://twitter.com/atheist_bihar/status/917685631383257089?ref_src=twsrc%5Etfw&ref_url=http%3A%2F%2Fwww.jantakareporter.com%2Findia%2Famit-shahs-italian-glasses-jibe%2F154356%2F

यहां बताया गया है कि नरेंद्र मोदी का फैशन उनकी राजनीति के बारे में क्या कहता है। वाशिंगटन पोस्ट ने 2015 में लिखा था। हालांकि, मोदी को सावधानी से हिंदुत्ववादी राष्ट्रवादी छवि मिली है, इसका मतलब यह नहीं है कि वह यूरोपीय डिजाइनरों के प्रशंसक नहीं हैं। उनके चश्मे Bvlgari और उनकी घड़ी Movado है। अपने पारंपरिक भारतीय नज़रिए के साथ देखा जाएं तो दो ब्रांडों की बाधाएं हैं लेकिन उनकी सह-व्यवसायिक विचारधारा के अनुरूप हैं।

लांस प्राइस द्वारा लिखी गई ‘द मोदी एफेक्ट: इनसाइड नरेंद्र मोदीज कैंपेन टू ट्रांसफॉर्म इंडिया’ में भी पीएम मोदी के चश्मे और घड़ी का विशिष्ट रुप से ज्रिक किया गया है। किताब में बताया गता था कि, उनके चश्मे Bvlgari और उनकी घड़ी Movado के है। इस किताब में चश्मे के अलावा उनके हाफ कुर्ते सहित अन्य पोशाकों के में भी जानकारी दी गई है।

Bvlgari एक महंगी इटालियन आभूषण और लक्जरी ब्रांड सामान है, जबकि Movado स्विस घड़ी निर्माता है और मोंट ब्लांक जर्मन ब्रांड है।

महंगे यूरोपियन चश्मे के लिए मोदी की रुचि का व्यापक रूप से विस्तार किया गया है। मई 2015 में, बीबीसी ने “द टाइम्स ऑफ़ इंडिया” के मुताबिक बताया था कि, श्रीमान मोदी, काली धूप का चश्मा में मैट्रिक्स शैली दो टेराकोटा सेना के सैनिकों के पीछे योद्धा की तरह है, जो टाइम्स के अनुसार, “किम कार्दशियन के चमचमाती ग्लूटास मैक्सिमस की तुलना में इंटरनेट को तेज़ी से तोड़ दिया”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here