सीएम के नाम को लेकर विधायक दल की बैठक में आनंदीबेन और अमित शाह के बीच तकरार हुई?

0

भले ही शुक्रवार को भाजपा ने गुजरात के नए मुख्यमंत्री के नाम का एलान कर दिया हो, लेकिन अगले चुनाव में पार्टी की नैय्या कौन पर लगाएगा इस बात पर अमित शाह और आनंदीबेन पटेल के बीच तकरार हुई।

बीजेपी विधायक दल की बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और आनंदीबेन पटेल ने भी शि‍रकत की। बताया जाता है कि सीएम के नाम को लेकर विधायक दल की बैठक में आनंदीबेन और अमित शाह के बीच तकरार हुई।

Also Read:  गुजरात में ‘जंगल राज’ है: अरविंद केजरीवाल

236094456-Amit-SHah-Anandiben_6

शाह रुपानी को सीएम बनाने पर अड़े थे तो आनंदी नितिन पटेल को अपना उत्तराधिकारी बनाना चाहती थीं। फिर वी सतीश ने पीएम मोदी को फोन किया और आनंदीबेन से उनकी बात कराई गई। आखिरकार अमित शाह के करीबी माने जाने वाले विजय रुपानी को सीएम और नितिन पटेल को डिप्टी सीएम बनाने के फॉर्मूले पर सहमति बनी।

विजय रुपानी गुजरात के नए मुख्यमंत्री होंगे। आनंदीबेन पटेल के इस्तीफे के बाद से गुजरात के नए मुख्यमंत्री को लेकर बीजेपी की माथापच्ची सुलझ गई है।

Also Read:  3700 करोड़ रुपये का आॅनलाइन घोटाला करने वाला अनुभव मित्तल गिरफ्तार, नोएडा से चला रहा था फर्जी सोशल ट्रेडिंग कम्पनी

शुक्रवार शाम गांधीनगर बीजेपी दफ्तर में पार्टी के विधायक दल की बैठक के बाद रुपानी के नाम की घोषणा की गई। इसके साथ ही अब तक सीएम की रेस में सबसे आगे माने जाने वाले नितिन पटेल को डिप्टी सीएम बनाया जाएगा। रुपानी रविवार को शपथ ग्रहण करेंगे।

गुजरात के मुख्यमंत्री की गद्दी पर बैठने जा रहे विजय रुपानी की अगली राह आसान नहीं होगी। उन्हें वो काम करने होंगे, जो आनंदीबेन न कर सकीं।

रुपानी के लिए सबसे अहम कामों में सुशासन देना, सरकार से नाराज चल रहे पटेल और दलित समुदाय को शांत करना और सरकार-पार्टी के बीच संबंधों को मजबूत बनाना शामिल हैं। बीजेपी को मुख्यमंत्री पद के लिए ऐसे चेहरे की सख्त जरूरत थी जो पाटीदारों और दलितों को शांत कर सके। लेकिन गैर-पाटीदार समुदाय से आने की वजह से रुपानी के लिए ये काम आसान नहीं होगा।

Also Read:  गुजरात का चायवाला निकला कालेधन का कुबेर, 650 करोड़ की संपत्ति का हुआ खुलासा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here