कोच्चि के अमाल को मार्क ज़करबर्ग ने सस्तें में ही निपटा डाला

0
>

कोच्चि के रहने वाले अमाल केएमई इंजीरियरिंग काॅलेज के फाइनल ईयर के छात्र है। अमाल की जिन्दगी में करोड़पति बनने का मौका आया था जो उनके हाथ से निकल गया। मार्क की टीम ने बेहद प्रोफेशनल तरीके से अमाल से उनकी बेटी के नाम से बुक कराये डोमेन को खरीद लिया। मार्क ज़करबर्ग और प्रिसिला चाॅन ने इसी साल अपनी खूबसूरत बेटी मेक्स को जन्म दिया था।

अमाल ने अपने दिमाग का बेहतर इस्तेमाल करते हुए तुरन्त मेक्स के नाम से एक डोमेन बुक करा लिया था जिसका नाम है मेक्स चान जकरबर्ग डाॅट आर्ग। ये डोमेन साधारण कीमत में खरीदा गया था लेकिन आज फेसबुक के मालिक मार्क ज़करबर्ग को इस डोमेन की जरूरत आन पड़ी, उन्होंने जब पता किया कि डोमेन किसके पास है तब अमाल के नाम वह डोमेन रजिस्ट्रर निकला। तब अमाल को सारा चैपल के नाम से एक मेल मिला जिसमें उन्होंने इस डोमेन को खरीदने की बात कहीं। अमाल ने अपने इस डोमेन की कीमत 700 डाॅलर यानी कि लगभग 47 हजार रूपये लगाई।

Also Read:  PAK के पूर्व राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बोले, 26/11 हमला पाक के आतंकी संगठन ने किया था

सारा तुरन्त मान गयी और सारी प्रक्रिया पूरी कर डोमेन ट्रांसफर करवा लिया गया। बाद में अमाल को रजिस्ट्रेशन बदलने का लेटर मिला जो कि फेसबुक का लेटरहेड था। अमाल ने पता किया कि सारा चैपल आइकाॅनिक कैपिटल की मैनेजर है जो कि मार्क ज़करबर्ग के फाइनेंशल मामलों को सम्भालती हैं।

Also Read:  बादल का पंजाब बना 'पाकिस्तान' प्रेग्‍नेंट डांसर ने हत्यारे के साथ डांस करने से मना किया तो मार दी गोली

अमाल के हाथों से डोमेन निकल चुका था लेकिन वह इसे 700 डाॅलर में बेचकर खुश थे कि कम से कम मार्क की कम्पनी के लोगों ने उनसे सम्पर्क तो किया हालांकि वे मानते है कि उन्हें मालूम नहीं था कि वह फेसबुक से है। मार्क ने लाखों डाॅलर खर्च कर पहले भी ऐसे कई मामले निपटाए है जिनमें व्हाटसऐप, इंस्टाग्राम जैसे नामों को खरीदना भी शामिल है लेकिन ये उनके जीवन की सबसे सस्ती डील हैं।

Also Read:  दादरी केस: अखलाक के परिवार की गिरफ्तारी पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की रोक

facebook

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here